गुरुवार, जून 25, 2009

यकीन

यकीन [लघु कथा 131लघुकथा एवं रेखा चित्र - प्रकाश गोविन्द

वह दोनों आमने-सामने बैठे थे ! बीच में एक छोटी सी गोल मेज थी ! जिसमें कॉफी के दो प्याले, एक शुगर पाँट, दो चम्मच और एक ऐश ट्रे पड़ी थी ! आदमी सिगरेट पीते हुए थोड़ी-थोड़ी देर बाद मुस्करा देता था ! औरत चुप थी, लेकिन आदमी की मुस्कराहट से परेशान हो उठती थी !

उसने आदमी से पूछा - "कितने चम्मच चीनी" ?

आदमी ने सन्क्षिप्त जवाब दिया - "दो चम्मच" !

"लेकिन तुम तो हमेशा एक चम्मच चीनी लेते हो" ?

"हाँ" !

"फिर" ?

"आज से पहले तुमने भी तो कभी कुछ पूछा नहीं" !

"हाँ .... लेकिन" ?

"लेकिन कुछ नहीं , आज कॉफी कुछ अधिक मीठी हो तो अच्छा है"

औरत ने चुपचाप दो चम्मच चीनी डाली और कप आदमी की तरफ बढा दिया ! दोनों धीरे-धीरे कॉफी 'सिप' करने लगे और आहिस्ता-आहिस्ता कप खाली हो गए ! सन्नाटे को तोड़ते हुए औरत बोली -
"जानते हो तुम्हारी कॉफी में जहर था, .... जो एक घंटे बाद तुम पर अपना असर दिखायेगा" !

आदमी ने सुना और आहिस्ता से बोला - "मालूम था" !

औरत ने ठहाका लगाया और बोली -
"यानी कि तुमको मालूम था ... इस कप में जहर था,, फिर भी तुम पी गए ? .... जबकि तुम मना कर सकते थे या बहाने से कप गिरा सकते थे या फिर अलमारी से अपना रिवाल्वर निकालकर मुझे गोली भी मार सकते थे,,,लेकिन तुमने यह सब नहीं किया और कॉफी पी गए" ?

"हाँ जानता था फिर भी मैं पी गया ! इसका भी एक कारण है ..... मैं यकीन नहीं कर पा रहा था कि तुम मुझे जहर भी दे सकती हो ... और दुविधा में जीने से बेहतर है असलियत जानने की ललक में मर जाना" !
********************************************************
[कई पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित]

bar'यकीन' लघु कथा को अल्पना वर्मा जी के स्वर में सुनिए :

64 टिप्‍पणियां:

  1. प्यारका ऐसा जजबा... या बेवफ़ाई का अंजाम?

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलो कहानी खत्म पेसा हज्म,

    उत्तर देंहटाएं
  3. wow, i hav started following this blog.

    Very nice post...

    Would like to fwd this short story to my friends, if you dont' mind.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहानी बेबाक है ओर निर्मम भी...तल्ख़ भी है ओर दिलचस्प भी....ह्म्म्म्म्म्म ये अंदाजे बया भी कुछ अलग सा है...

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ अलग सी लघु कथा.
    जो अंत में बेबाक खामोशी छोड़ जाती है.
    कहानी में वफा और बेवफाई का अद्भुत चित्रण किया है.

    गहरी छाप छोड़ती है रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका ब्लॉग नित नई पोस्ट/ रचनाओं से सुवासित हो रहा है ..बधाई !!
    __________________________________
    आयें मेरे "शब्द सृजन की ओर" भी और कुछ कहें भी....

    उत्तर देंहटाएं
  7. कहानी का कथानक बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर गया.. आप बहुत अच्छे carrykachr भी बनाते हैं आज ही पता चला.. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मैं यकीन नहीं कर पा रहा था कि तुम मुझे जहर भी दे सकती हो ...
    और दुविधा में जीने से बेहतर है असलियत जानने की ललक में मर जाना" !

    ये कहानी की बेसलाईन हैं

    आखिर की दो पंक्तियाँ मन को उद्वेलित कर देती हैं
    कहानी के अंत के बारे में कुछ भी कह पाना बहुत मुश्किल है
    प्यार का आधार यकीन ही होता है - - - अगर यकीन नहीं तो प्यार कैसा ?
    शायद यह विश्वास और विश्वासघात दोनों की पराकाष्ठा है

    उत्तर देंहटाएं
  9. ye to Mujhe pata hi nahi tha ki aap itne lambe samay se kahaniya likh rahe hai...kahani vakai achhi hai...

    carrykachr bhi bahut achha banaya hai apne...

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रकाश जी,

    वाकई एक बहुत ही कसी हुई लघुकथा पढी आज। बहुत ही सधे हुये ताने-बाने में बिंधा हुआ घटनाक्रम। आज के दौर में रिश्तों में ऐसा मर्म शायद अब कथाओं की ही बात हो।

    रेखाचित्र बिल्कुल संगत देता है जा़किर हुसैन साहब की तरह।

    दिल से बधाई

    सादर,


    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छी लगी आपकी कहानी, पुरानी होकर भी कितनी नयी है..

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    बहुत बढ़िया लिखा है आपने! चित्र भी बहुत सुंदर बनाया है! बेहतरीन पोस्ट के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  13. --kasaa हुआ kathanak!
    -सच में दिल को chhu गयी यह कहानी !
    **anmol जी की बात dohra रही हूँ--'यह विश्वास और विश्वासघात दोनों की पराकाष्ठा है'.

    -कहानी लिखने का andaaz भी pasand आया..20 साल पहले likhi यह कहानी आप ने आज prastut की ,abhaar,

    अपनी likhi और भी kahaniyan padhwayen..anurodh है.

    [सोच रही हूँ...kahani ka [1 ghante baad- anjaam क्या हुआ होगा??]
    हो सकता है वह zahar नकली हो??[ तो..कितना achcha होगा..एक जान तो bach jayegi..
    --
    Aap artist bhi hain yah jaankar ashcharya hua!

    rekha chitr bahut achcha hai.

    - multi-talented personality hain!

    उत्तर देंहटाएं
  14. गोविन्द सर आपने बेहद दिलकश अफसाना लिखा है. कहानी अंजाम पे आकर हैरत में डालती है. क्या इतना सेंसटिव भी कोई होता है. मै भी इसको पढ़कर उदास हो गयी. आप हमें भी बताएं कैसे इतना सुन्दर हम लिख सकते है
    आप ऊपर वाली कमेन्ट को हटा दें. जिसमे बुराई लिखी है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह प्रकाश जी, बहुत अच्छी लघुकथा.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. is kahaani ko maine bahut pahle kisi magzine mein padha hai aur ye kahaani meri diary ka hissa v hai... aaj ise blog par dekhkar dil ko itni khushi mili main bata nahi sakta...
    ye kahaani mujhe us din v itni hi pasand thi jitni aaj...
    likhte rahiye...

    उत्तर देंहटाएं
  17. मैं यकीन नहीं कर पा रहा था कि तुम मुझे जहर भी दे सकती हो ...
    और दुविधा में जीने से बेहतर है असलियत जानने की ललक में मर जाना" !

    मुझे कहानी बहुत अच्छी लगी....बहुत बहुत बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  18. खूब सूरत लघुकथा.
    ओ-हेनरी की कहानियों मे पुरूष गोली मारता कहानी खत्म हो जाती ,लेकिन मुझे आपका मतलब आपकी कहानी का अन्त पसन्द आया
    श्याम सखा

    उत्तर देंहटाएं
  19. मन को झकझोर देने वाली रचना। पढवाने के लिए शुक्रिया।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  20. पसंद आयी आपकी लघुकथा ,बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रकाश जी ,
    बहुत अच्छी लगी आपकी लघुकथा ----बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  22. कहानी तो अच्छी है परन्तु इतना दुखद अंत? और इतनी खतरनाक बेबफाई ? वेसे कहानी थोडी सी बड़ी होती तो और मजा आता.

    उत्तर देंहटाएं
  23. मन यह मानने को तैयार नहीं होता कि अन्त दुःखद होगा। कुछ न कुछ चक्कर होगा एक लाइन का भर का। पर क्या? यही तो बात है...
    रचना अपने आप में बहुत सुन्दर है।

    उत्तर देंहटाएं
  24. अनूठी शैली मे लिखी गई,
    उत्तम लघु कथा के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुंदर/सचोट कथा! पति के जवाब ने शायद पत्नि को ज़िंदा ही मार दिया होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  26. Ek prabhavi laghukatha me jo hona chahiye wo sari hi chijen hain isme.Badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत अच्छी कहानी है. अंत में कहानी जिस तरह से पलटती उससे इसकी मार्मिकता बढ़ जाती है.

    ये हिदी में लिखने वाला बॉक्स कैसे लगाया है हमे भी बताये...

    उत्तर देंहटाएं
  28. story..kaaphi achchi hai..lagta nahi ki aapki ye pahli rachna hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्रकाश जी,
    बहुत सुन्दर कहानी..मानवीय भावों को प्रदर्शित करती हुई .

    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  30. sir , main bahut der se aapki posts padh raha hoon , aur ye waali post s padhkar to mere shabd hi chup ho gaye...

    naman hai aapko ,.aapki lekhni ko salaam..

    meri badhai sweekar karen..
    Aabhar
    Vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/07/window-of-my-heart.html

    उत्तर देंहटाएं
  31. सबसे पहले आपका शुक्रिया की आप मेरे ब्लॉग पे आयें और इतना बढ़िया कमेन्ट किया....सच में लोग प्रेम में कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहतें हैं.....बहुत अच्छी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  32. अफ़सोस की आपके ब्लॉग पर आने में देरी हुई...क्या खो रहा था पता चला...चलो देर आयद दुरुस्त आयद...आप का ब्लॉग तो खूबसूरत है ही आपकी लेखनी भी कमाल की है...जिस अंदाज़ से आपने ये लघु कथा लिखी है उस पर तालियाँ बजाने को जी करता है...बहुत खूब....लिखते रहें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  33. कहानी अच्छी है बहुत बहुत बधाई.....

    उत्तर देंहटाएं
  34. यकीन के साथ जीना होता है .यकीन जब हो ही गया की सच क्या है तो मरना क्यूं ? कहीं यकीन से ज्यादा यह इच्छा तो नहीं की तुम्हारे लिए मर भी सकते हैं :):)

    उत्तर देंहटाएं
  35. प्रकाश भाई आप अपनी और भी लघु-कथाओं को पोस्ट कीजिये
    मैं उन्हें भी पढ़ने के लिए उत्सुक हूँ
    कृपया जल्दी-जल्दी पोस्ट किया करें
    बार-बार खाली लौटना पड़ता है

    उत्तर देंहटाएं
  36. google men search karte huye pata nahi kaise yahan aa gaya,. saahitya ki jyada samajh nahi hai mujhe. lekin isko padhane ke baad ajeeb sa ehsaas hua. acha laga kahne se jyada uchit hoga ya kahna ki aapki kahani ne udaas kar diya. (-gunjan goswami)

    उत्तर देंहटाएं
  37. awesome ...Intresting ...memorable ...

    Just wonderful story

    उत्तर देंहटाएं
  38. आप सभी पाठकों -
    VaRtIkA, दिलीप कवठेकर जी , राज भाटिय़ा जी , Yogesh ji, Anumeha, Osho 4 u, ताऊ जी , डॉ .अनुराग जी , Vishal Saxena, प्यारी अलका, KK Yadav , आशीष खण्डेलवाल जी , अनमोल राही, ओम आर्य जी , Jyoti Sharma, मियां हलकान जी , दिनेशराय द्विवेदी जी , Vineeta Yashswi, आहट, मुकेश कुमार तिवारी,anand sagar, Harkirat Haqeer ji, neera ji, Babli ji, अल्पना वर्मा जी, mahe, योगेन्द्र मौदगिल जी , Abhishek Prasad, प्रसन्न वदन चतुर्वेदी जी , श्याम सखा 'श्याम' जी , महामंत्री - तस्लीम, डॉ. मनोज मिश्र जी , JHAROKHA,cartoonist anurag, shikha varshney, sarwat m, रानी पात्रिक जी , Prem Farrukhabadi, संदीप, डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक, रज़िया "राज़" जी ,sandhyagupta ji, कंचन जी , Purnima ji, shivendra sinha, रंगनाथ सिंह जी , mark rai ji, sangeeta ji, Vijay Kumar Sappatti ji,satish kundan, raj, नीरज गोस्वामी जी , कंचनलता चतुर्वेदी जी , RAJ SINH ji, shubham jain, Suman, Ishita, Jyoti Sharma, Shaheen, shivendra sinha ji, ADITI CHAUHAN ji,

    आप सभी प्रबुद्धजनों का अत्यंत आभारी हूँ,
    जो आपने मेरी पोस्ट पर अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया
    व्यक्त की ! आपका स्नेह व आशीर्वाद ही मुझ जैसे
    आलसी जीव को सक्रिय रखता है !

    *************************************
    पोस्ट के विषय में एक बात कहना चाहता था !
    "यकीन" लघु-कथा के एक-दो जगह प्रकाशित करने
    के पश्चात मैने इसमें एक पंक्ति और जोड़ने की कोशिश
    की थी !

    मैने आख़िरी पंक्ति यह लिखते हुए समाप्त की थी कि -
    "आदमी ने डूबती आँखों से देखने की चेष्टा की तो उसे
    शर्मसार सी एक आकृति दिखाई दी !"


    सुविख्यात कवि एवं साहित्यकार श्री लीलाधर जगूडी जी ने
    इस कहानी को पढ़कर स्वतः कहा कि - 'इसमें अंतिम पंक्ति
    आपने अनावश्यक रूप से जोड़ दी है !'


    मुझे भी उनकी बात सही लगी और मैने वो पंक्ति हटा दी !
    *************************************

    एक बार पुनः आप सबका हार्दिक धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  39. प्रकाश जी नमस्ते,
    डॉ.अनुराग की पोस्ट पर आप के कमेन्ट पढ़े...ऐसा लगता है वह खुद ब खुद अपने आप में एक पोस्ट बन सकती है..वैसे भी आप की तारीफ़ है और आप की टिप्पणी से लगता भी है की आप ने पोस्ट को बड़े दिल और दिमाग से पढ़ा है..सरसरी नज़र से नहीं...कविताओं की पंक्तियाँ और उदहारण जोड़ना किसी निबंध जैसा बना देते हैं...

    वैसे ,आप की नयी पोस्ट कब आएगी?काफी समय से कुछ नया पोस्ट नहीं किया आप ने?
    आभार,
    अल्पना

    उत्तर देंहटाएं
  40. Uff ! Iske aage kuchh nahee kah paa rahee hun...

    http://kshama-bikharesitare.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  41. prakash ji

    mere paas koi shabd nahi hai ki mai aapke lekhan ki taarif karun ..main spechless hoon bhai.. aapki lekhni ko salaam .. aapko naman .. yaar main ye kahaniya ,apne ghar me padhwaata hoon , aap sach me bahut accha likhte ho ji .. aapse ab seekhna padhenga sir .. naman ..

    vijay

    pls read my new poem "झील" on my poem blog " http://poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  42. sir ,aapka lekhan mujhe baar baar yahan aane par mazboor kar deta hai .....kya karun .. bahut dino baad aaj blogging karne baitha hoon.. aapki kahani padhne baith gaya ..

    उत्तर देंहटाएं
  43. aap ki chhoti-chhoti laghu kathayen bahut badi badi seekh deti hain aap ki rachnayen bahut achhi lagti hain aise hi likhte rahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  44. मैं यकीन नहीं कर पा रहा था कि तुम मुझे जहर भी दे सकती हो ...
    और दुविधा में जीने से बेहतर है असलियत जानने की ललक में
    मर जाना" !

    behad prabhavi..

    उत्तर देंहटाएं
  45. बहोत ही मार्मिक लघु कथा लिखी है आपने. मै आपको एक महिने से जान रहा हूँ, पर इस लघु कथा को आज ही पढ़ पाया

    उत्तर देंहटाएं
  46. .

    प्रकाश जी,

    यकीन और हमदर्द दोनों लघु कथाएँ पढ़ीं। पढने के बाद मन में बहुत बेचैनी थी , शायद आप इस कहानी के लेखक होने के कारण बेहतर समझ सकेंगे। फिर टिप्पणियां पढ़ीं , और मेरी बेचैनी ख़तम हुई आपकी ही एक टिपण्णी से --

    " गुनाहगार को भी गुनाह का बोझ
    बहुत लम्बे समय तक उठाना पड़ता है ..."

    आभार।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  47. मै कहानियाँ बहुत पसन्द करता हों और लिखता भी हूँ , मुझे आप कि कहानियाँ बहुत पसन्द आयी|
    आप मेरे ब्लॉग पर भी पधारें मेरा पता -

    http://deep2087.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  48. आज पाँचवी बार इस लघुकथा को पढ़ रहा हूँ, ना जाने क्यों मेरा मन इस ब्लॉग पर आता है तो तो इसी लघुकथा पर ठहर जाता है, अभी मैने आपकी कई रचनाएँ नहीं पढ़ी है, जब इस ब्लॉग पर आता हूँ तो ये पोस्ट मुझे अपनी तरफ खींच लेती है और फिर पुरी लघुकथा पढ़ने के बाद एक-एक करके सारे कमेंट भी पढ़ता हूँ.
    निश्चित तौर पर ऐसा इसलिये है क्योकिं इतनी अच्छी लघुकथा मैनें आज तक कहीं नहीं पढ़ी और हो सकता आगे भी ऐसी लघुकथा पढ़ने को ना मिले.
    !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
    सर दीपावली के अवसर पर कहीं दिखे नहीं आप...... कहाँ है आप ????????
    लगभग सभी ब्लॉगर्स ने दिवाली के दिन अपने ब्लॉग पर दिये रखे और लोगों को शुभकामनाएँ दी
    पर आपका ब्लॉग दिपक के बगैर भी जगमगा रहा था..................

    अंधेरी राह पर जगमगाती एक नयी आश हैं
    वक्त से परे रहकर झिलमिलाते रहिये
    कैसे कहूँ उजालों का साथ रहे आपके संग
    आखिर आप तो खुद ही प्रकाश हैं....................

    इस कंमेंट को लिखते समय कोई त्रुटि हुई हो तो क्षमा कीजियेगा.................

    उत्तर देंहटाएं
  49. कल 20/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यशवंत भाई
      आपकी इनायत का शुक्रिया ..

      हटाएं

'आप की आमद हमारी खुशनसीबी
आप की टिप्पणी हमारा हौसला' !!

संवाद से दीवारें हटती हैं, ये ख़ामोशी तोडिये !!
*****************************************************