मंगलवार, अक्तूबर 14, 2008

रोजाना


(कविता)

देखिये जनाब,
आज का दिन,
फिर ऐसे ही गुजर गया,
मै सुबह उठा,
चाय, सिगरेट, अखबार,
यानी वही सब रोजाना के बाद,
मै यही सोचता रहा,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
********************************

फिर जनाब मै दफ्तर गया,
फाइल, दस्तखत, साहब की झिड़की,
यानी कि वही सब रूटीन के बाद,
मै यही सोचता रहा,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

और ऑफिस के बाद,
मै अपनी प्रेमिका से मिला,
छिटपुट प्यार, व्यापार और तकरार,
यानी वही सब कुछ के बाद,
हम यही सोचते रहे,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

फिर शाम को जनाब हम,
एक सभा में सम्मिलित हुए,
मार तमाम प्रस्तावों,
विवादों और घोषणाओं के बाद,
हम सब इसी निष्कर्ष पर पहुंचे,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

रात में जनाब,
डिनर, टीवी, और बीबी के बाद,
इन्टरनेट पर ब्लागबाजी करते हुए,
हम सब यही कहते रहे,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

और देखिए जनाब,
आज का दिन,
फिर ऐसे ही गुजर गया
!!!!!!!!

शुक्रवार, अक्तूबर 10, 2008

तमाशा -ए-लोकतंत्र


- व्यंग कथा -


उस बस्ती से बाहर जाने वाले रास्ते पर एक विशाल पत्थर पड़ा था ! बस्ती वालों ने कई बार सरकारी संस्थाओं से गुहार की थी कि उस पत्थर को हटा दिया जाए क्यूंकि उससे आम जनता को बड़ी परेशानी होती है , लेकिन जैसा कि सरकारी काम काज में हमेशा होता है , उनकी बात पर किसी ने ध्यान नही दिया !

लेकिन एक बार संयोग से जब राज्य में सरकार बदली तो एक ऐसे सज्जन मुख्यमंत्री बन गए, जिनके एक रिश्तेदार उस बस्ती में रहते थे ! रिश्तेदार ने मुख्यमंत्री से कहा ! मुख्यमंत्री ने तुंरत कार्यवाई करने का आश्वासन दिया ! मुख्यमंत्री ने एक मंत्री को "पत्थर हटाओ विभाग" का मंत्री बना दिया ! मुख्यमंत्री के पास, जाहिर है कि बहुत सारे काम थे, सो व्यस्तता के चलते वे "पत्थर हटाओ विभाग" बनाना भूल गए ! नए बने मंत्री सचिवालय गए और उन्होंने जगह-जगह पूछा कि "पत्थर हटाओ विभाग" कहाँ है ? लेकिन उन्हें कोई ठीक जवाब नही दे पाया ! यहाँ तक कि अपने विभाग की खोज में वे सचिवालय के बाहर पानवालों और चायवालों के पास भी गए, लेकिन उन्हें कुछ पता नही चला ! उन्हें कार, बंगला, सुरक्षा गार्ड और चपरासी मिल गए, लेकिन विभाग नही मिला !

कालांतर में राजनैतिक वजहों से अचानक मंत्री जी का राजनैतिक वजन बढ़ गया सो मुख्यमंत्री को उनकी बात सुननी पडी ! तुंरत विभाग का गठन हो गया ! "पत्थर हटाओ विभाग" में एक सचिव, एक संयुक्त सचिव, एक उप सचिव आदि मय पीए, टाइपिस्टों, चपरासियों के आ गए ! बल्कि एक पत्थर हटाओ निदेशालय भी बन गया और वहां निदेशक, उप निदेशक आदि मय अमले के आ गए ! हर विभाग का बजट बना ! बैठकें होने लगीं ! अच्छा खासा दफ्तर बन भी गया !

लेकिन एक समस्या हो गई ! जिस बैठक में पत्थर हटाने के लिए मजदूर लगाने का निर्णय होना था उसके पहले मंत्रिमंडल में फेरबदल हो गया ! विभाग के मंत्रीजी को वित्त विभाग में छुट्टे पैसों का स्वतंत्र प्रभार मिल गया और पशुपालन विभाग में सुअरबाड़े के प्रभारी मंत्री "पत्थर हटाओ विभाग" के मंत्री हो गए ! उनकी इस विभाग में कोई रूचि नही थी ! सचिव महोदय भी तबादला करवा कर दिल्ली चले गए ! उसके बाद कालांतर में सरकार बदल गई और नए मुख्यमंत्री की भी इस विभाग में कोई रूचि नही थी, इसलिए पत्थर वहीँ पड़ा रहा ! फ़िर निजीकरण की क्रान्ति आ गई, जहाँ तहां ढीले-ढाले सरकारी तंत्र की जगह चुस्त दुरुस्त निजी क्षेत्र आ गए !

फ़िर वक्त के फेर में पुराने वाले मुख्यमंत्री फ़िर से मुख्यमंत्री बन गए ! उनके रिश्तेदार पत्थर की शिकायत लेकर फ़िर उनसे मिले ! मुख्यमंत्री ने कहा कि अबकी बार वे सरकारी तंत्र पर निर्भर नही रहेंगे ! यह काम निजी क्षेत्र को दिया जायेगा !

"पत्थर हटाओ विभाग" को ख़त्म करके उसका विनिवेश कर दिया गया ! एक निजी कंपनी को पत्थर हटाने का ठेका मिला ! उस कंपनी ने एक और कंपनी बनायी, जिसका नाम 'स्टोन एंड स्टोन' था ! एक विख्यात मेनेजर को इस कंपनी का जनरल मेनेजर बनाया गया ! इसके बाद कई मेनेजर नियुक्त हुए ! एक सज्जन मानव संसाधन मेनेजर बने, एक प्रोडक्शन मेनेजर बने, एक जनसंपर्क मेनेजर बने, एक मेंटेनेंस विभाग के मेनेजर बने, जाहिर है एकाउंट्स और सामान्य काम काज देखने के लिए मेनेजर तो थे ही ! एक शानदार एयर कंडीशंड खूबसूरत ऑफिस बनाया गया ! तमाम अखबारों में विज्ञापन दिए गए !

ऑफिस में तमाम भर्तियाँ हुयीं ! इस बीच जनरल मेनेजर ने इस्तीफा दे दिया ! उन्हें मनाने के लिए उन्हें तरक्की देकर सीईओ और प्रेसिडेंट बना दिया गया ! इसी बीच और मेनेजरों कि तरक्की भी हुयी, जो मेनेजरों थे वे सब जनरल मैनेजेर हो गए ! जनरल मैनेजेर वाइस प्रेसिडेंट हो गए, बाबू मेनेजर हो गए ! इन लोगों की रोज कई बैठकें होतीं थीं ! जिनमे तय किया गया कि पत्थर हटाने के लिए कुछ मजदूरों को भर्ती किया जाए !

मजदूर भर्ती भी हुए, लेकिन इस बीच कंपनी की आर्थिक स्थिति ख़राब हो गई और उसे ठीक करने के लिए मजदूरों को निकालने का फ़ैसला किया गया ! यह पाया गया कि मजदूर कंपनी पर बोझ थे, इसलिए उनकी छुट्टी कर दी गई ! लेकिन पत्थर हटाने का काम करना जरूरी था इसलिए यह तय किया गया कि किसी और कंपनी को पत्थर हटाने का ठेका दिया जाए ! यह प्रक्रिया चल ही रही थी कि मालिक ने घोषणा कर दी कि कंपनी घाटे में है और इसे बंद किया जाए ! मेनेजर लोग दूसरी कंपनी में चले गए, कंप्यूटर बेच दिए गए !

वह पत्थर अब भी बस्ती के रास्ते में पड़ा है !!!

शुक्रवार, अक्तूबर 03, 2008

पहले हम तो सुधरें .......




ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के ताजा आँकड़ों के मुताबिक भारत भ्रष्ट देशों की सूची में ८५ वें पायदान पर है ! पिछले साल के मुकाबले भारत १२ पायदान ऊपर चढ़ा है ! पिछले साल हम चीन के साथ ७२ वें स्थान पर थे ! १८२ देशों में कराये गए सर्वेक्षण में भारत की स्थिति से ख़ुद ब ख़ुद पता चलता है कि हमारे यहाँ भ्रस्टाचार कितनी तेजी से बढ़ रहा है ! आख़िर इसकी वजह क्या है ? अब तो धीरे - धीरे सार्वजनिक क्षेत्र के संस्थानों का भी निजीकरण हो रहा है ! इसके बाद भ्रस्टाचार बढ़ने के बजाय घटना चाहिए , लेकिन ऐसा नही हो रहा है ! इसके लिए जितनी जिम्मेदार गठबंधन राजनीति है उतने ही हम भी हैं !

हम औरों को कितना भी कोसें पर इसमे कोई दो राय नही कि भ्रस्टाचार को बढ़ावा देने में हमारा भी हाथ है ! पुलिस में रिपोर्ट लिखवानी हो या फ़िर पासपोर्ट बनवाना हो और या फ़िर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना हो , हम समय बचाने के लिए नियमानुसार काम न करके भ्रस्टाचार को बढ़ावा देते हैं | अपनी बारी का इन्तजार करना हमारी शान के ख़िलाफ़ है ! जब हम सुधरेंगे तभी दूसरों पर उंगली उठा सकते हैं !

सिक्के का दूसरा पहलू यह है कि प्रशासनिक कामकाज के तौर-तरीके आमजन को ऐसा करने को उकसाते हैं | फ़िर भी व्यवस्था में सुधार के लिए हमे भी धैर्य से काम लेना होगा | बढ़ते भ्रस्टाचार के पीछे भूख, लालच, तुच्छ मानसिकता के अलावा सरकार में दृढ़ इच्छाशक्ति की कमी भी एक अहम् कारण है !

इस दलदल से निकलने के लिए हमें सख्त कदम उठाने होंगे ! ये कदम केवल दिखावे के लिए न होकर देश कि परिस्थितियों को समझते हुए उठाये जाने चाहिए !