सोमवार, दिसंबर 08, 2008

दो कवितायें - मूक प्रश्न / संवाद



- मूक प्रश्न - (कविता)

बीजगणित के "इक्वेशन"
भौतिकी के "न्युमैरिकल"
और जैविकी की "एक्स्पैरिमेंट्स"
से परे भी,
एक दुनिया है
भूख और गरीबी से सनी हुयी !

वहीँ मिलूँगा मैं तुम्हें
यदि तुम मेरे मित्र हो तो आओ
इस इक्वेशन को हल करें
कि क्यों मुट्ठी भर लोग
करोड़ों के हिस्से की रोशनी
हजम कर जाते हैं !

इस न्युमैरिकल का जवाब ढूँढें
कि करोड़ों पेट क्यों
अंधेरे की स्याही पीने को अभिशप्त हैं !

आओ ! इस एक्स्पैरिमेंट्स का
परिणाम देखें
कि जब करोड़ों दिलों में
संकल्प की मशालें जल उठेंगी
तब क्या होगा ???



- संवाद - (कविता)

बहुत दिन हुए
नहीं दिखायी पड़ा कोई सपना
एक पत्थर तक नहीं उठाया हाथ में
चिल्लाए नहीं, हँसे नहीं रोये नहीं
किसी का कन्धा तक थपथपाए हुए
कितने दिन बीत गए !

यहाँ घास का एक बड़ा सा मैदान था
यह कहते हुए भी लड़खड़ाती है जुबान
इतने गरीब तो हम कभी नहीं थे
कि नफरत जानने के लिए
डिक्शनरी में शब्द ढूंढते फिरें !

उदाहरण के लिए यह आंसू की एक बूँद है
जिसे हम कहते रहे पत्थर
हम बेहतर जीवन की तलाश में यहाँ आए थे
यह कहने की शायद कोई जरूरत नहीं कि
क्रूरता के बाद भी बची हुयी है दुनिया !

इस अंधेर नगरी में सिगरेट सुलगाते हुए
हमारे हाथ कांपते हैं जरा सी आहट पर
हो जाती है बोलती बंद
अब कोई भी नहीं कहता
मैं इस दुनिया को आग लगा दूँगा !

हद से हद इतना सोचते हैं अगर चाहूँ तो
मैं भी लिख सकता हूँ
कागज़ पर क्रान्ति की बातें
और उबलते संवाद !!!

मंगलवार, अक्तूबर 14, 2008

रोजाना


(कविता)

देखिये जनाब,
आज का दिन,
फिर ऐसे ही गुजर गया,
मै सुबह उठा,
चाय, सिगरेट, अखबार,
यानी वही सब रोजाना के बाद,
मै यही सोचता रहा,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
********************************

फिर जनाब मै दफ्तर गया,
फाइल, दस्तखत, साहब की झिड़की,
यानी कि वही सब रूटीन के बाद,
मै यही सोचता रहा,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

और ऑफिस के बाद,
मै अपनी प्रेमिका से मिला,
छिटपुट प्यार, व्यापार और तकरार,
यानी वही सब कुछ के बाद,
हम यही सोचते रहे,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

फिर शाम को जनाब हम,
एक सभा में सम्मिलित हुए,
मार तमाम प्रस्तावों,
विवादों और घोषणाओं के बाद,
हम सब इसी निष्कर्ष पर पहुंचे,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

रात में जनाब,
डिनर, टीवी, और बीबी के बाद,
इन्टरनेट पर ब्लागबाजी करते हुए,
हम सब यही कहते रहे,
कि आख़िर ऐसा कब तक चलेगा !!
*********************************

और देखिए जनाब,
आज का दिन,
फिर ऐसे ही गुजर गया
!!!!!!!!

शुक्रवार, अक्तूबर 10, 2008

तमाशा -ए-लोकतंत्र


- व्यंग कथा -


उस बस्ती से बाहर जाने वाले रास्ते पर एक विशाल पत्थर पड़ा था ! बस्ती वालों ने कई बार सरकारी संस्थाओं से गुहार की थी कि उस पत्थर को हटा दिया जाए क्यूंकि उससे आम जनता को बड़ी परेशानी होती है , लेकिन जैसा कि सरकारी काम काज में हमेशा होता है , उनकी बात पर किसी ने ध्यान नही दिया !

लेकिन एक बार संयोग से जब राज्य में सरकार बदली तो एक ऐसे सज्जन मुख्यमंत्री बन गए, जिनके एक रिश्तेदार उस बस्ती में रहते थे ! रिश्तेदार ने मुख्यमंत्री से कहा ! मुख्यमंत्री ने तुंरत कार्यवाई करने का आश्वासन दिया ! मुख्यमंत्री ने एक मंत्री को "पत्थर हटाओ विभाग" का मंत्री बना दिया ! मुख्यमंत्री के पास, जाहिर है कि बहुत सारे काम थे, सो व्यस्तता के चलते वे "पत्थर हटाओ विभाग" बनाना भूल गए ! नए बने मंत्री सचिवालय गए और उन्होंने जगह-जगह पूछा कि "पत्थर हटाओ विभाग" कहाँ है ? लेकिन उन्हें कोई ठीक जवाब नही दे पाया ! यहाँ तक कि अपने विभाग की खोज में वे सचिवालय के बाहर पानवालों और चायवालों के पास भी गए, लेकिन उन्हें कुछ पता नही चला ! उन्हें कार, बंगला, सुरक्षा गार्ड और चपरासी मिल गए, लेकिन विभाग नही मिला !

कालांतर में राजनैतिक वजहों से अचानक मंत्री जी का राजनैतिक वजन बढ़ गया सो मुख्यमंत्री को उनकी बात सुननी पडी ! तुंरत विभाग का गठन हो गया ! "पत्थर हटाओ विभाग" में एक सचिव, एक संयुक्त सचिव, एक उप सचिव आदि मय पीए, टाइपिस्टों, चपरासियों के आ गए ! बल्कि एक पत्थर हटाओ निदेशालय भी बन गया और वहां निदेशक, उप निदेशक आदि मय अमले के आ गए ! हर विभाग का बजट बना ! बैठकें होने लगीं ! अच्छा खासा दफ्तर बन भी गया !

लेकिन एक समस्या हो गई ! जिस बैठक में पत्थर हटाने के लिए मजदूर लगाने का निर्णय होना था उसके पहले मंत्रिमंडल में फेरबदल हो गया ! विभाग के मंत्रीजी को वित्त विभाग में छुट्टे पैसों का स्वतंत्र प्रभार मिल गया और पशुपालन विभाग में सुअरबाड़े के प्रभारी मंत्री "पत्थर हटाओ विभाग" के मंत्री हो गए ! उनकी इस विभाग में कोई रूचि नही थी ! सचिव महोदय भी तबादला करवा कर दिल्ली चले गए ! उसके बाद कालांतर में सरकार बदल गई और नए मुख्यमंत्री की भी इस विभाग में कोई रूचि नही थी, इसलिए पत्थर वहीँ पड़ा रहा ! फ़िर निजीकरण की क्रान्ति आ गई, जहाँ तहां ढीले-ढाले सरकारी तंत्र की जगह चुस्त दुरुस्त निजी क्षेत्र आ गए !

फ़िर वक्त के फेर में पुराने वाले मुख्यमंत्री फ़िर से मुख्यमंत्री बन गए ! उनके रिश्तेदार पत्थर की शिकायत लेकर फ़िर उनसे मिले ! मुख्यमंत्री ने कहा कि अबकी बार वे सरकारी तंत्र पर निर्भर नही रहेंगे ! यह काम निजी क्षेत्र को दिया जायेगा !

"पत्थर हटाओ विभाग" को ख़त्म करके उसका विनिवेश कर दिया गया ! एक निजी कंपनी को पत्थर हटाने का ठेका मिला ! उस कंपनी ने एक और कंपनी बनायी, जिसका नाम 'स्टोन एंड स्टोन' था ! एक विख्यात मेनेजर को इस कंपनी का जनरल मेनेजर बनाया गया ! इसके बाद कई मेनेजर नियुक्त हुए ! एक सज्जन मानव संसाधन मेनेजर बने, एक प्रोडक्शन मेनेजर बने, एक जनसंपर्क मेनेजर बने, एक मेंटेनेंस विभाग के मेनेजर बने, जाहिर है एकाउंट्स और सामान्य काम काज देखने के लिए मेनेजर तो थे ही ! एक शानदार एयर कंडीशंड खूबसूरत ऑफिस बनाया गया ! तमाम अखबारों में विज्ञापन दिए गए !

ऑफिस में तमाम भर्तियाँ हुयीं ! इस बीच जनरल मेनेजर ने इस्तीफा दे दिया ! उन्हें मनाने के लिए उन्हें तरक्की देकर सीईओ और प्रेसिडेंट बना दिया गया ! इसी बीच और मेनेजरों कि तरक्की भी हुयी, जो मेनेजरों थे वे सब जनरल मैनेजेर हो गए ! जनरल मैनेजेर वाइस प्रेसिडेंट हो गए, बाबू मेनेजर हो गए ! इन लोगों की रोज कई बैठकें होतीं थीं ! जिनमे तय किया गया कि पत्थर हटाने के लिए कुछ मजदूरों को भर्ती किया जाए !

मजदूर भर्ती भी हुए, लेकिन इस बीच कंपनी की आर्थिक स्थिति ख़राब हो गई और उसे ठीक करने के लिए मजदूरों को निकालने का फ़ैसला किया गया ! यह पाया गया कि मजदूर कंपनी पर बोझ थे, इसलिए उनकी छुट्टी कर दी गई ! लेकिन पत्थर हटाने का काम करना जरूरी था इसलिए यह तय किया गया कि किसी और कंपनी को पत्थर हटाने का ठेका दिया जाए ! यह प्रक्रिया चल ही रही थी कि मालिक ने घोषणा कर दी कि कंपनी घाटे में है और इसे बंद किया जाए ! मेनेजर लोग दूसरी कंपनी में चले गए, कंप्यूटर बेच दिए गए !

वह पत्थर अब भी बस्ती के रास्ते में पड़ा है !!!

शुक्रवार, अक्तूबर 03, 2008

पहले हम तो सुधरें .......




ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल के ताजा आँकड़ों के मुताबिक भारत भ्रष्ट देशों की सूची में ८५ वें पायदान पर है ! पिछले साल के मुकाबले भारत १२ पायदान ऊपर चढ़ा है ! पिछले साल हम चीन के साथ ७२ वें स्थान पर थे ! १८२ देशों में कराये गए सर्वेक्षण में भारत की स्थिति से ख़ुद ब ख़ुद पता चलता है कि हमारे यहाँ भ्रस्टाचार कितनी तेजी से बढ़ रहा है ! आख़िर इसकी वजह क्या है ? अब तो धीरे - धीरे सार्वजनिक क्षेत्र के संस्थानों का भी निजीकरण हो रहा है ! इसके बाद भ्रस्टाचार बढ़ने के बजाय घटना चाहिए , लेकिन ऐसा नही हो रहा है ! इसके लिए जितनी जिम्मेदार गठबंधन राजनीति है उतने ही हम भी हैं !

हम औरों को कितना भी कोसें पर इसमे कोई दो राय नही कि भ्रस्टाचार को बढ़ावा देने में हमारा भी हाथ है ! पुलिस में रिपोर्ट लिखवानी हो या फ़िर पासपोर्ट बनवाना हो और या फ़िर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना हो , हम समय बचाने के लिए नियमानुसार काम न करके भ्रस्टाचार को बढ़ावा देते हैं | अपनी बारी का इन्तजार करना हमारी शान के ख़िलाफ़ है ! जब हम सुधरेंगे तभी दूसरों पर उंगली उठा सकते हैं !

सिक्के का दूसरा पहलू यह है कि प्रशासनिक कामकाज के तौर-तरीके आमजन को ऐसा करने को उकसाते हैं | फ़िर भी व्यवस्था में सुधार के लिए हमे भी धैर्य से काम लेना होगा | बढ़ते भ्रस्टाचार के पीछे भूख, लालच, तुच्छ मानसिकता के अलावा सरकार में दृढ़ इच्छाशक्ति की कमी भी एक अहम् कारण है !

इस दलदल से निकलने के लिए हमें सख्त कदम उठाने होंगे ! ये कदम केवल दिखावे के लिए न होकर देश कि परिस्थितियों को समझते हुए उठाये जाने चाहिए !

मंगलवार, सितंबर 30, 2008

क्यूँ बदल रहा है बचपन ?


यूँ तो बड़ों जैसा दिखना और बनना हमेशा ही बच्चों की फितरत होती है लेकिन आजकल यह प्रवृत्ति काफ़ी बढ़ गई है और ग़लत रूप में विकसित हो रही है यही वजह है कि वे कम उम्र में ही बड़ों कि तरह व्यवहार करने लगते हैं उनकी मासूमियत और बचपन कहीं गुम - सा नजर आता है !

सके लिए सबसे ज्यादा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जिम्मेदार है तरह तरह कि फंतासी कहानियाँ बच्चों के कोमल मन पर गहरा और बुरा असर दाल रही हैं इनसे बच्चों में अपराध की प्रवृत्ति बढ़ गई और वे अक्सर हिंसक घटनाओं को अंजाम देते हुए नजर आते हैं !

तो पश्चिमी देशों के स्कूलों की तरह भारतीय स्कूलों से भी हैरतअंगेज खबरें सामने आने लगी हैं ! अक्सर सुनाई देता है की फलां स्कूल में एक छात्र ने गोली मारकर किसी सहपाठी की जान ले ली ! इसके लिए अभिभावक भी कम जिम्मेदार नही हैं जो अपने बच्चों पर समय के अभाव में ध्यान नही दे पाते !

अपने बच्चों को कैसा भविष्य देना चाहते हैं यह सोचने की जिम्मेदारी मीडिया और अभिभावक दोनों पर है ! संकीर्ण लाभ के लिए बच्चों की मासूमियत से सौदा ना करें !

बुधवार, सितंबर 17, 2008

'आवाज़' ब्लॉग की सभी पोस्ट यहाँ देखें

    सोमवार, सितंबर 15, 2008

    आतंकवाद का महिमा मंडन कब तक ?

    तंक का नंगा नाच जारी है कब कहाँ बम फट जाए कुछ नही कहा जा सकता आतंकवादी पूरे देश में खून की होली खेल रहे हैं जैसे ही कहीं बम फटता है मीडिया का पूरा लाव लश्कर वहां पहुँच जाता है उसके बाद टीवी के दर्जनों न्यूज़ चैनल दिन भर ज्यादा से ज्यादा कवरेज दिखाने की होड़ में लगे रहते हैं

    यह सही है कि देश के हर शहर में हर जगह 'सिक्योरिटी' नही रखी जा सकती। मानवता के दुश्मन दहशत फैलाने का रास्ता खोज ही लेंगे, लेकिन हमे अब आतंकवाद के मनोविज्ञान को समझना होगा। किसी भी बम विस्फोट में जब मासूम लोग मरते हैं, तो उन मरने वाले लोगों से आतंकवादियों की किसी तरह की व्यक्तिगत रंजिश नही होती है उनका सिर्फ़ एक ही मकसद होता है - दहशत फैला कर ज्यादा से ज्यादा 'पब्लिसिटी' हासिल करना यहाँ तक कि बम फटने के कुछ ही घंटे के अन्दर स्वयं ही ई- मेल करके अपनी पीठ ठोक लेते हैं।

    किसी भी तरह की आतंकवादी घटना होने पर प्रशासन अपना दायित्व और व्यवस्था चाक चौबंद रखे लेकिन मीडिया को अपना काम गभीरता से समझना होगा। आतंकवाद को 'ग्लेमराइस' करने की जरूरत नही है, अगर न्यूज़ पेपर और न्यूज़ चैनल अपने ऊपर संयम रखें तो आतंकवादियों मनोबल टूटेगा और उन्हें हताशा होगी।


    ****************************

    रविवार, सितंबर 14, 2008

    गेट वेल सून ..... राज मामू




    अभी जब चीन में ओलम्पिक हो रहा था तो भारत से काफ़ी लोग गए थे , जिसमे अनेक मीडिया कर्मी भी शामिल थे वहां भारतीय भोजन की काफ़ी दिक्कत थी, कुछ होशियार लोगों ने इन्टरनेट की मदद ली और वहां भी ऐसे दर्जनों रेस्ट्रोरेन्ट खोज निकाले जहाँ भारतीय भोजन मिलता था बड़े बड़े साईन बोर्ड में हिन्दी में इंडियन फ़ूड लिखा हुआ था अब जरा सोचिये जरा राज ठाकरे अगर चीन के निवासी होते तो उनको कितना अपमान महसूस हुआ होता ?

    असल में कुछ लोगों का काम ही होता है हर बात में अपना अपमान खोजना मैग्नीफाइंग ग्लास लेकर बैठे रहते हैं कब उनको अपना अपमान दिखाई दे जाए ये तो अच्छा हुआ की तुलसीदास, कबीरदास, मीरा, प्रेमचंद, टैगोर,रजा राम मोहन राय, गाँधी वगैरह राज के शासन काल में नही हुए वरना राज ठाकरे की महाराष्ट्र नव निर्माण सेना ने हल्ला बोल दिया होता !

    मित्रों बात मजाक की नही है आज हमें सोचना होगा की इस मल्टीकलर देश में ऐसी कौन सी परिस्थितियां जवाबदेह हैं की अब्दुल बुखारी , सुभाष घीसिंग , भिंडडारवाला, राज ठाकरे जैसे खतरनाक अलगाव वादी वाइरस पनपते रहते हैं ? चाहे लादेन हो या राज ठाकरे ..... ऐसे लोग सिर्फ़ एक व्यक्ति नही होते ये लोग स्वयं में फैक्ट्री की तरह होते हैं जहाँ बहुतायत में अपनी जैसी दूषित विचारधारा वाले लोगों का उत्पादन करते रहते हैं इसलिए ऐसे घातक वाइरस पर जैसे भी हो तत्काल रोक लगानी आवश्यक है !


    शुक्रवार, सितंबर 12, 2008

    हाय मीडिया


    यह कितने शर्म की बात है भारत में टी वी के चैनल्स पर जिन फूहड़ और ऊलजलूल चीजों को समाचार के नाम पर परोसा जा रहा है उनका विरोध उतना नही हो रहा है जितना होना चाहिए. जब हम दूसरे देशों के चैनल्स को देखते है तो पता चलता है कि टी वी पत्रकारिता किस चिडिया का नाम है. देश या विदेश में कितनी बड़ी घटना हो जाए मगर हमारे चैनल को तो नागिन की कहानी / भुतहा हवेली का सच / मोहल्ले के प्रेम प्रसंगों से घटित अपराधों / फ़िल्म जगत की प्रेम कहानियों / बाबाओं के चमत्कारों / रत्न, ताबीज़ बेचने / भविष्य बताने वाले जोकर नुमा ज्योतिषों जैसे कार्यकर्मों से ही फुर्सत नही है

    ये सोचने कि बात है कि क्या आज मीडिया का काम वैज्ञानिक चेतना और शिक्षा के प्रचार -प्रसार की जगह केवल भय और अंधविश्वास का बढ़ावा देना हो गया है। पत्रकारिता व्यापार नहीं मिशन है यह बात जानने और समझने वाले हम आप जलालत महसूस कर सकते हैं और कर रहे हैं लेकिन अफ़सोस.......... क्या उन पर फर्क पड़ेगा ? शायद कभी नही दोस्तों आज जल्दी में हूँ .... आज बस इतना ही .... आगे इस पर चर्चा होगी !