मंगलवार, जुलाई 23, 2013

अकेलापन (कविता)


बटन पुश कर देते हैं 
स्क्रीन चमकने लगती है 
उँगलियाँ हिलने लगती हैं 
हम गुम हो जाते हैं अनजान दुनिया में !

बाहर की दुनिया क्या सचमुच
इतनी नीरस और उबाऊ है कि 
हम अपने चिर-परिचित दायरों में
रोमांच खोजने लग जाते हैं?

जीते-जागते इंसान को छोड़कर
उससे नज़रें बचा कर
सैकड़ों लोगों का सर्कस देखना 
ज्यादा अच्छा लगता है

सामने बैठे इंसान से मुस्करा कर
दो बोल बोलने के बजाय
किसी दीवार पर
"LOL", "fantastic", "miss you"
लिखना ज्यादा अच्छा लगता है

बिस्तर से सुबह उठते ही
बटन पुश कर देते हैं 
स्क्रीन चमकने लगती है 
उँगलियाँ हिलने लगती हैं 
हम गम हो जाते हैं अनजान दुनिया में !

समय के साथ उम्र ढल जाती है
मॉडल बदल जाते हैं, प्लान बदल जाते हैं
चार-चार स्मार्टफोन घर में हो जाते हैं
पहले ही कम बोलते थे
अब मरघट सा छा जाता है
घर में ही SMS भेजे जाने लगते हैं

और एक दिन बैटरी चुक जाती है
चार्जर भी जवाब दे जाता है
तो अकेलापन ही अकेलापन
नितांत अकेलापन ही नज़र आता है
====================

---------------------

-- प्रकाश गोविन्द 
---------------------
फेसबुक लिंक :

शुक्रवार, जुलाई 19, 2013

न्याय (कविता)










न्यायाधीश जा चुका है
वकील जा चुके हैं
दर्शक जा चुके हैं
मुंसिफ, पेशकार, और चपरासी तक जा चुके हैं
ख़त्म हो चुकी है बहस
फैसला हो चुका है

अपराधियों को ले जा चुकी है पुलिस
अदालत एकदम खाली है
सिर्फ लोगों के जूते के साथ आई धूल
अदालत के फर्श पर बची है

उस धूल में किसी की जेब से गिरा
एक सिक्का चमक रहा है !!!


--------------------------------------

रविवार, अप्रैल 28, 2013

एक नज़रिया ये भी .....

जैसा कि समाचार पत्रों और न्यूज चैनल्स से खुलासा हुआ है कि दिल्ली के दरिंदो ने पहले कालगर्ल खोजी फिर नही मिलने पर गुडिया को रौंद डाला ! ठीक यही निर्भया उर्फ़ दामिनी केस में भी हुआ था ! वो दरिन्दे भी सडक पर बस लेकर कालगर्ल खोज रहे थे ! 

सामाजिक सरंचना से जुडी बलात्कार रूपी बीमारी को दुनिया की कोई भी कानून व्यवस्था ठीक नहीं कर सकती ! जब रोग और रोगी दिखाई दे, तब तो उपचार हो सकता है किन्तु जब रोग और रोगी समाज के रंगीन आवरण से ढका हो तो इलाज सिर्फ और सिर्फ स्वस्थ सामाजिक व्यवस्था से ही संभव है, इसके लिए पुलिस और कानून व्यवस्था को पूर्ण रूप से दोषी ठहराना उचित नहीं है ! कुछ लोगो को मेरी ये बात अटपटी लग सकती है लेकिन यदि भारत सरकार कुछ बड़े शहरों में जहा पर प्रवासी लोग मजदूरी करने ज्यादा आते है यदि वहाँ वेश्यावृत्ति को क़ानूनी रूप देकर उन्हें कुछ शर्तो के साथ यदि स्वीकृति दे दे तो देश में बहुत से बलात्कार रोके जा सकते है ! 

सआदत हसन मंटो की किताब में पढ़ा था कि- 
 "तुम क्यों वेश्याओ को हिराकत की नजर से देखते हो ? वो है तभी तो तुम्हारे घरो की बहू बेटिया सलामत है" 

 वेश्यावृति दुनिया का सबसे पुराना पेशा माना जाता है .. हिन्दूधर्म में इनका कई रूप में महत्वपूर्ण उल्लेख है .. इनके लिए गणिका, नगरवधू, देवदासी आदि शब्द इस्तेमाल किये गये है .. चाणक्य ने भी समाज में इनकी महत्ता बताई है ..और पुराने युग में इन्हें शत्रु राजाओ को मारने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता था जिन्हें विषकन्या भी कहते थे ! 

हिन्दी की मशहूर लेखिका शिवानी ने भी लिखा है की ये वेश्याए समाज की गंदगी को खुद के अंदर लेकर समाज को साफ रखती है ! 

एम्सटर्डम में एक समय में बलात्कार के बहुत केस बढ़ गये थे .. इतने ज्यादा कि मीडिया ने एम्सटर्डम को रेप केपिटल ऑफ़ यूरोप घोषित कर दिया था ... लेकिन वहाँ की सरकार ने कुछ समाजशास्त्रीयो के सुझाव पर वेश्यावृति को क़ानूनी रूप देकर उन्हें लाइसेंस दे दिया गया, जिससे कुछ हफ़्तों के अंदर ही बलात्कार में नाटकीय ढंग से गिरावट आई 
------------------------------------------------------------
देश की सबसे बड़ी समाचार पत्रिका इंडिया टुडे की इस बार की कवर स्टोरी- यह देश गुड़िया के रहने के काबिल नहीं, क्योंकि आपकी गुड़िया पर जिनकी बुरी नजर है, वे 90% मामलों में आपके रिश्तेदार, पड़ोसी और परिचित हैं.....
------------------------------------------------------------
THE END

*******************************************************

'एक नज़रिया ये भी .... ' मुद्दे को 'विचार-विमर्श' हेतु मंच पर प्रकाशित किया गया था !

'विचार-विमर्श मंच के सुधी सदस्यों द्वारा प्राप्त बहुमूल्य प्रतिक्रियाएं :
---------------------------------------------------------------------------------
bar
कुसुम वीर : 
प्रिय प्रकाश जी, मैं आपके नज़रिए से सहमत नहीं हूँ l मेरे विचार से दुष्कर्म में कमी तभी आ सकती है यदि ;
1. दुष्कर्मी को तत्काल बहुत सख्त सज़ा / फाँसी दी जाए ;
2. सिनेमा / दूरदर्शन से अशलील चित्र हटाए जाएं ;
3.Times of India के Delhi Times में औरतों के नग्न चित्र न दिए जाएं
4. अशलील CD /sim आदि पर रोक लगे ;
5 महिलाएं back less / shoulder less / mini अशलील dresses पहनना छोड़ दें l
--------------------------------------------------------------------------------------------------

प्रकाश गोविंद : 
मैं स्वयं भी पूर्णतयः तो सहमत नहीं हूँ ... बस यह भी एक नजरिया है ... एक ही विषय के बहुत सारे नजरिये हो सकते हैं !
--------------------------------------------------------------------------------------------------

विजय निकोर :  
कुसुम जी, मै आपकी सूची से सहमत हूँ, उसमें एक # ६ और जोड़ना चाहता हूँ.... ६. बच्चों को घर में और स्कूल में महिलाओं के प्रति आदर और सदभाव के लिए शिक्षा पर महत्व दिया जाए, क्योंकि यही बच्चे बाद में युवक बनेंगे।  सादर, 
--------------------------------------------------------------------------------------------------

कुसुम वीर : 
बिलकुल ठीक, विजय जी, बहुत ही सही कहा आपने l मैं जब news papers, magazines,TV, या cinemas में महिलाओं के अर्ध नग्न, अशलील चित्र देखती हूँ, तो मन बहुत व्यथित होता है l Because, this is also one of the reason of rapes in the society.
--------------------------------------------------------------------------------------------------

डा० दीप्ति गुप्ता : 
आदरणीय कुसुम जी , आपकी बात अपने में पूरी तरह सही है ! देश में प्राचीन काल से यह प्रथा प्रचलित रही है ! नगर-वधू के रूप में प्रचलित इस प्रथा का खुलासा आचार्य चतुरसेन के उपन्यास 'वैशाली की नगर वधू' में हुआ है ! इसके अलावा शूद्रक के 'मृच्छकटिकम' की 'वसंतसेना' भी ! लेकिन सिक्के का दूसरा पहलू वह भी है, जो प्रकाश जी ने रखा है !

कुछ व्यवहारिक कारणों से वेश्यावृत्ति को क़ानूनी स्वीकृति मिलनी चाहिए ! यह प्रस्ताव विचाराधीन है ! Ministry of Women & Child Development की रिपोर्ट के अनुसार भारत में 3 लाख सैक्स वर्कर्स है, जिनमे 35% 18 साल की उम्र से इस पेशे में आती है ! 1997 से 2004 के मध्य वेश्यावृत्ति 50% बढ़ी ! महाराष्ट्र और कर्नाटक की 'देवदासी बेल्ट' के बारे में कौन नहीं जनता ! हमारे देश में सिर्फ जम्मू और काश्मीर में वेश्यावृति वैध है ! According to the Public Prostitutes Registration Rules, 1921, a prostitute can carry on her trade legally if she registers herself with the District Magistrate.

कुछ समाजशास्त्रियों का बड़ा सही तर्क है - यह पेशा गैरकानूनी होने पर भी समाज के कोने-कोने में फल-फूल रहा है, इसलिए समाज का जो दरिद्र हिस्सा इससे आपनी आजीविका चलाता है, उसे जीने का हक देने के लिए व बलात्कार की घटनाओं को कम करने के लिए 'गृह-मंत्रालय' इसे कानूनी स्वीकृति दिए जाने के लिए प्रयास रत है !

गंभीरता से गर सोचे तो हम पायेगें कि वेश्यावृत्ति की जड़ है 'गरीबी' ! हमारे अनुसार इस समस्या का निदान है - गरीबी को दूर करना ! इस बात की क्या गारंटी है की इस पेशे को कानूनी स्वीकृति दिए जाने के बाद भी समाज से बलात्कार की समस्या समाप्त हो जायेगी ! हाँ, कम ज़रूर हो सकती है !
--------------------------------------------------------------------------------------------------

कुसुम वीर : 
आदरणीय दीप्ति जी, मैं आपसे सहमत हूँ कि पुरातन काल में भी कई कुप्रथाएँ थीं, जिनका खुलासा आचार्य चतुरसेन के उपन्यास 'वैशाली की नगर वधू' और शूद्रक के 'मृच्छकटिकम' की 'वसंतसेना" में किया गया ! लेकिन,यहाँ मेरा अपना मत है कि वैश्यावृत्ति को सामाजिक या कानूनी स्वीकृति मिलने से बालिकाओं का अपहरण, या पैसे की खातिर उनकी खरीद-फरोख्त के मामले और अधिक बढ़ेंगे ! सादर,
--------------------------------------------------------------------------------------------------

डा० दीप्ति गुप्ता : 
प्रिय कुसुम जी, Prostitution को legalize करने के पीछे जो वजह हैं, उसे नहीं भूलना है ! वह है rape और molestation आदि की वारदातों को कम करना और लगभग समाप्त प्राय करना (समाप्त हो न हो परन्तु कम ज़रूर होगीं ) ! आपने जो लिखा है, वह सब तो अब भी हो रहा हैं और उससे ज्यादा rape और molestation की घटनाएँ बड़ी नृशंसता के साथ घट रही है ! तो कम से कम इन दोनों बातों में से, एक पर तो नियंत्रण पाया जा सकेगा ! जिन देशों में यह legalize कर दिया गया हैं वहाँ सरकारी सर्वे के अनुसार sexual abuse में बहुत गिरावट आई है ! 

वैसे तो हमें भी व्यक्तिगत रूप से Prostitution को legalize करना कोई शोभनीय नहीं लगता, लेकिन जब सामाजिक रूप से इस विषय पे छिडी बहस को हर दृष्टिकोण से व्यवहारिक तल पर बार-बार सोचा तो, पसंद-नापसंद, शोभनीय-अशोभनीय को एक तरफ सरकाना ही उचित लगा और सभी विचारकों, समाजशास्त्रियों के सुझाव व्यावहारिक दिखे !   सादर ! 
--------------------------------------------------------------------------------------------------

कनु : 
वेश्यावृत्ति को वैध करने के सम्बन्ध में सबसे पहले कल प्रकाश जी, फिर कुसुम जी, फिर दीप्ति जी ने अपने -अपने सुचिंतित विचार रखे. मुझे प्रकाश जी और दीप्ति जी की सभी दलीले और उदाहरण तर्क सम्मत लगे. दीप्ति जी ने जो यह तथ्य प्रस्तुत किया , वह अकाट्य है - 
कुछ समाजशास्त्रियों का बड़ा सही तर्क है - यह पेशा गैरकानूनी होने पर भी समाज के कोने-कोने में फल फूल रहा है , इसलिए और समाज का जो दरिद्र हिस्सा इससे आपनी आजीविका चलाता है, उसे जीने का हक देने के लिए व बलात्कार की घटनाओं को कम करने के लिए 'गृह मंत्रालय' इसे कानूनी स्वीकृति दिए जाने के लिए प्रयास रत है ! 

तो सीधी सी बात है कि जब गैरकानूनी होने पर भी वेशायावृत्ति सदियों से समाज अपनी जड़े फैलाए हुए है तो इससे बेहतर है कि उसे वैध बनाया जाए . यह बात आज फिर से दीप्ति जी ने लिखी है फिर संजीव जी ने भी दोहरराई है कि जिन देशों में इसे कानूनी स्वीकृति दी गई हैं , वहाँ बलात्कार की घटनाओं में कमी आई है. 

समाज में अच्छे-बुरे, साधु और वेश्या, सबकी अपनी-अपनी अहमियत है. आम्रपाली का बौद्ध भिक्षु से प्रश्न और ज्ञान के ऐसे संवाद कहना जिनके उत्तर भिक्षु के पास भी नहीं थे, कहने का तात्पर्य ये है कि अगर हम चाहे कि समाज में सब उत्तम ही उत्तम हो तो ऐसा चाहते हुए भी हो नहीं हो सकता.भगवान ने अपने बनाये हाड-मांस के पुतलों में राग-वैराग, ईमानदारी-बेईमानी, भावनात्मक और शारीरिक पवित्रता-अपवित्रता , सब इस तरह भर दी है कि उस पे सभी भावों, शरीर की सभी मांगों का कब्ज़ा क्रमानुसार होता रहता है. इस पापी शरीर के चलते इसकी भूख से पुरुष हमेशा ग्रस्त रहेगा. 

गलती तो भगवान की है जिसने इंसान को शरीर की अतिरिक्त भूख के साथ धरती पर उतारा. इसलिए इस भूख को भी आदमी मिटाएगा ही. इसकी सहजता के मद्देनज़र वेश्यावृत्ति वैध हो जाए तो वाकई पुरुष की भूख मनोज्ञानिक स्तर पे खुद ही कम हो जायेगी, जब किसी चीज़ पे पाबंदी होती है, तब उसकी ओर आदमी अधिक लपकता है. और जब पाबंदी हटा ली जाती है तो वह अनिच्छुक रहने लगता है . सादर, 
--------------------------------------------------------------------------------------------------

संजीव वर्मा 'सलिल' : 
कनु जी हम किसी व्यवसाय का औचित्य स्वीकार करें और उसे हेय या पाप भी कहें यह कितना उचित है? पुण्य या पाप का वर्गीकरण क्यों आवश्यक है? नारी को पूज्या कह-कह कर हमने भोग्या ही नहीं शोषिता भी बना दिया. देह व्यवसाय को पुण्य या पाप क्यों कहें? यह जब तक सामान्य व्यवसाय नहीं माना जायेगा तब तक इसमें संलग्न व्यवसायी स्त्री-पुरुष और उनके स्वजन लज्जित अनुभव करेंगे। मैं नहीं समझ पाता कि मन की पवित्रता की तुलना में तन की पवित्रता अधिक महत्त्वपूर्ण क्यों हो जाती है?
--------------------------------------------------------------------------------------------------

प्रकाश गोविन्द :   
आदरणीय संजीव 'सलिल जी की यह बात अत्यंत महत्वपूर्ण एवं विचारणीय है कि "मन की पवित्रता की तुलना में तन की पवित्रता अधिक महत्त्वपूर्ण क्यों हो जाती है? इसी मान्यता के चलते इस देश में स्त्री जाति का सबसे ज्यादा शोषण होता आया है !

मुझे तो आये दिन समाचार पत्र और न्यूज चैनल पर बोले जाने वाले शब्द "इज्जत लुटी" पर ही आपत्ति है ... एक स्त्री का सम्पूर्ण अस्तित्व महज यौन शुचिता से जोड़कर देखा जाना किसी द्रष्टि से सही नहीं माना जा सकता !
--------------------------------------------------------------------------------------------------

कुसुम वीर : 
आदरणीय प्रकाश जी, आपने तो बिलकुल मेरे मन की बात कह दी !
--------------------------------------------------------------------------------------------------

महेश चन्द्र द्विवेदी : 
प्रकाश जी - आप के खुले चिंतन एवं स्पष्टोक्ति के लिए हार्दिक बधाई. बलात्कार का कारण लिखित एवं चित्रित कला/साहित्य में खुला कामोद्देपन तो है ही, साथ ही विपरीत्लिंगी के विषय में अज्ञानता तथा लड़कियों की संख्या घटने, कामेच्छा के प्रति सामाजिक दुराव-छिपाव एवं नगरीकरण के कारण उनकी अनुपलब्धता भी हैं. यदि इन मूल कारनों का निवारण नहीं होता है, तो कानून की कठोरता बहुत सफल नहीं होगॆ. हां, सामाजिक विरोध अवश्य कुछ प्रभावी हो सकता है.
--------------------------------------------------------------------------------------------------

संजीव वर्मा 'सलिल' : 
मानव समाज में चिरकाल से यह विषय चर्चित रहा है. बलात्संग के इंद्र-अहल्या प्रकरण से सभी परिचित हैं। प्रयास तो जयंत ने भी किया था किन्तु अकस्मात् राम के आ जाने से सीता बच गयीं। नागर सभ्यता में देह व्यवसाय को चाहे अनचाहे मिलता रहा। महल, रजवाड़े, मंदिर, मस्जिद, गिरजाघर, गुरूद्वारे, मठ, आश्रम सर्वत्र देह की चाह और चाहपूर्ति की राह का प्यासा इतिहास का हिस्सा है। कोई भी शासन व्यवस्था और प्रणाली दरिद्रतम को पालने में समर्थ नहीं हो सकी। यदि मुफ्त पालन हो तो कोई भी श्रम न करेगा। ऐसी स्थिति में जो और कुछ न कर सके वह देह का प्रयोग कर पेट भरे तो रोकना कितना उचित है? 

अन्य पक्ष यह भी की जिनके संगी बिछुड़ गए किन्तु वे संयमी या त्तृप्त नहीं हैं वे क्या करें? किसी कारण से जिनके विवाह न हो सकें वे कहाँ जाएँ? जिन्हें रोजी-रोटी की तलाश में परिवार छोड़कर बहुधा लम्बे समय तक बाहर रहना होता है (सेना के जवान, वाहन चालक, श्रमिक आदि), वे अपनी तुष्टि कैसे करें? 
नैतिक मूल्य सबके एक समान नहीं हो सकते। ऐसी स्थिति में मुफ्त या जबरदस्ती संबंधों के लिए विवश की जाती नारी को बचाने का एक प्रयास देह व्यवसाय को कानूनी वैधता देना हो सकता है। कुछ देशों में यह वैध है भी। वहां बलात्संग के प्रकरण कम हैं तथा व्यवसाय में रत स्त्री-पुरुषों को हेय भी नहीं माना जाता। अतः इस विषय में पुनर्विचार किया जाना चहिए.   
--------------------------------------------------------------------------------------------------

शिशिर : 
आदरणीय कुसुम दीदी,  'पुरातन काल में कुप्रथाएं थी', कुसुम दी, दीप्ति जी ने यह लिखा था कि जो वेश्यावृत्ति की कुप्रथा आज हैं, वह आज की प्रथा नहीं है अपितु अगर हम पीछे मुड के देखें तो, 'नगरवधू और देवदासियों के रूप में प्राचीन कल से चली आ रही है. यानी हर युग, देश,कल, वातावरण में देह की अँगनाए समाज का 'अभीप्सित' अंग रही है. . जन इतने सालों से हम समाज, साहित्य, गायन-वादन में इनके दर्शन कर ही रहे हैं तो इनके साथ अब्नार्मल छुपे-दबे संपर्क रखने के स्थान पर नार्मल और सहज ढंग से संपर्क रखा जाए. अभी कनु जी ने बड़ा मनोवैज्ञानिक आधार दिया है कि जब वेश्याओं से संपर्क साधना वैध हो जाएगा तो काफी प्रतिशत आदमी स्वयं ही अनिच्छुक हुए सही राह पे आ जायेगें. सो यह मामला शारीरिक से ज्यादा भावना और संवेदना के तल पर विरक्ति (सैक्स के प्रति) जगाने का है, जो कामयाब रहेगा.

जब काम-क्षुधा नार्मल रहेगी तो इन पेशेवालियों के प्रति लोगों की आसक्ति मंदी पड़ेगी, आसक्ति मंदी पड़ेगी तो लडकियों के अपहरण, बेचना, खरीद-फरोख्त आदि भी मंदे पड़ जायेगे. सादर,
--------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रकाश गोविन्द : 
मैं एक और भी महत्वपूर्ण बात कहना चाहता हूँ जिसे अनदेखा किया जाता रहा है ... सरकार द्वारा भी और समाज द्वारा भी ! आप लोगों को क्या लगता है - बलात्कार की जो घटनाएं रजिस्टर्ड होती हैं .... जो सामने आ पाती हैं उनका परसेंटेज क्या होता होगा ! वास्तविकता यह है कि हजार-पांच सौ में कोई एक घटना सामने आ पाती है .... ऐसे मामलों में कोई भी अपने घर-परिवार का सम्मान नहीं खोना चाहता .... सब के सब ऐसी घटनाओं को दबाना-छुपाना चाहते हैं ! देश भर में बलात्कार के जो रजिस्टर्ड आंकड़े हैं वो ही बेहद भयावह हैं ..... असली आंकड़ों की बात सोचिये जरा ! 

आज जिस तरह का वातावरण टीवी से, फिल्मों से, विज्ञापन से, ब्ल्यू फिल्मों की सीडी से, अश्लील साईटों से बन रहा है .... उसके आधार पर मैं आज सबसे ज्यादा चिंतित हूँ उन बलात्कारों से जो आम जन-मानस के मनो-मस्तिष्क में चल रहे हैं।  
--------------------------------------------------------------------------------------------------
------------------------------------------------------------------------------------
bar

शनिवार, सितंबर 29, 2012

जो कि महज मखमल में टाट का पैबंद था

[प्रकाश गोविन्द]
 कहानी - दास्तान-ए-आशूदा
  -----------------------------------
लोग चाहे कुछ भी कहते फिरें, लेकिन आशू दद्दा पर कोई असर नहीं। वह हमेशा की तरह वैसे के वैसे ही रहे। आशूदा सच में पागल हैं। हो सकता है ऐसा न हो, लेकिन हम घर वालों की राय उनके प्रति यही मानी जाती रही कि आशूदा का पेंच ढीला है। पिताजी ने तो अपने शक को पुख्ता करने के लिए मनोचिकित्सक को घर बुलाकर बहाने से आशूदा को भी सामने बैठाया था। मनोविज्ञान का डाक्टर देर तक बातचीत करता रहा, बीच-बीच में कई तरह के सवाल पूछकर आशूदा का मुआयना करता रहा। मनोचिकित्सक का मानना था कि आशूदा बिलकुल ठीक हैं। बस जरा सामान्य लोगों से अलग हैं। इस पर पिताजी की प्रतिक्रिया थी कि पागलपन का मतलब भी तो यही है, जो सामान्य लोगों जैसा व्यवहार न करे, वो पागल है। सभी असहमति प्रकट करते डाक्टर के निष्कर्ष से।

अक्सर जब परिवार के लोग एक साथ बैठते तो चर्चा का विषय एक ही होता - आशू दद्दा। समय गुजरता गया, लेकिन कुल जमा जोड़ यही रहा कि आशू दा ने अपने को बदलने का तनिक भी प्रयास नहीं किया। वो वैसे ही रहे अलमस्त।

दुनियादारी का सम्बन्ध स्कूल या कालेज की डिग्री से थोड़े ही होता है। कहने को तो आशूदा एम.एस.सी फर्स्ट क्लास हैं। पर फायदा ? हर जगह मिसफिट। चार नौकरियां तो खुद छोड़ीं आशुदा ने और पांचवी से निकाल दिए गए। तीन नौकरियां तो सरकारी थीं। पोस्ट भी ऐसी कि रोज जेब तर रहे। आज की भीषण बेरोजगारी वाले युग में लोग एक अदद नौकरी का दिन-रात सपना देखते हैं। सरकारी नौकरी तो समझो ईश्वर का वरदान। लेकिन ये आशूदा भी एकदम बकलोल अव्वल दर्जे के। जितने दिन भी नौकरी करते रहे, मानो दुनिया पर अहसान करते रहे। घर पर, सड़क पर, पता नहीं क्या-क्या बडबडाते रहते - ......."सरकारी कुर्सी मिल गई गई है तो जैसे हरामखोरी का लाईसेंस ही मिल गया है। किसी की दुःख तकलीफ मजबूरी नहीं समझते। दो मिनट का काम हो तो भी दो-दो .. तीन-तीन महीना दौडाते हैं। मजाल है कि बिना पैसा लिए किसी फाईल को हाथ भी लगा दें ... कफनचोर।"

ऐसे में पिताजी आशूदा को समझाने की कोशिश करते - "यू कांट डू एनिथिंग, एनिबडी कांट बीट इंडीजुवल दिस सिस्टम। सरकारी डिपार्टमेंट में काम ऐसे ही होता है। तुम्हारे पेट में दर्द काहे हो रहा है। तुमको तो महीने के आखिर में सेलरी मिल जाता है न। तुम्हे इन सब बातों से क्या वास्ता।"
आशूदा की बातें सुनकर हमें कोफ़्त होने लगती। मंझले दद्दा झल्लाहट में कह उठते - "इतने बड़े होकर भी कैसी बचकानी बात करते हैं ? राजा हरीशचंद्र की एजेंसी लेकर दुनिया को सुधारने का ठेका लिए हैं क्या आशूदा ?" हम सब देर तक मजाक बनाते उनका।

धीरे-धीरे हमारी अपनी अलग दुनिया होती गई। पहले मंझले दद्दा और फिर मेरी शादी विधिवत धूमधाम से संपन्न हुयी। आशूदा को तो कुंवारे ही रहना था सो वो कुंवारे ही बने रहे। वैसे भी कौन भलामानुष अपनी लड़की ऐसे आदमी को सौंप देगा, जिसकी सारी हरकतें पागल जैसी हों।


आशूदा पहले की तरह ही उन्मुक्त भाव से हँसते। बेफिक्र हो मंद-मंद मुस्कुराते रहते। कभी बांसुरी बजाते, कभी ढपली बजाकर लोकगीत गाते। घंटे-घंटे भर उनका सतरंगी कार्यक्रम चलता रहता। मैं और मंझले दा भीतर बैठे कुढ़ते रहते कि कैसे वह इतने आनंदमग्न रह सकते हैं, जबकि उनके पास कायदे के कपडे तक नहीं हैं। चार साल से एक ही चप्पल घिस रहे हैं। थोड़ा बहुत जो ट्यूशन से कमाते भी हैं तो उस पैसे से पता नहीं कैसी अगड़म-बगड़म सी किताबें खरीद लाते हैं।

आशूदा की वजह से हम भिन्नाये रहते। उन्ही के कारण घर कबाडखाना बना रहता है। हर जगह किताबें ......वेद, उपनिषद, गीता, कबीर, गांधी, टैगोर, सुकरात, लाओत्से, प्लूटो, हीगेल, रसेल, सात्रे, मार्क ट्वेन, गोर्की, बर्नाड शा, मार्क्स, नीत्से, खलील जिब्रान, ओशो ............... सैकड़ों किताबों का ढेर लगा हुआ है घर में। म्यूजिक सिस्टम को उठाकर बक्से की ऊपर रखना पड़ा। टीवी और फ्रिज के ऊपर भी आये दिन किताबें दिखाई देतीं। आशूदा भी अजीब सनकी। देर रात तक पता नहीं क्या-क्या आलतू-फालतू चीजें पढ़ते रहते हैं।

शाम को आशूदा बाहर लान में आकर जब बैठते तो निठल्लों का जमघट लग जाता। घंटों वह दददा के साथ बहस करते। पता नहीं आशूदा में कैसा प्रभाव था कि जब वे गंभीर स्वर में अपनी बात कहते तो सब निःशब्द बैठे सुनते रहते। सामजिक न्याय, आर्थिक विषमता, शोषण, मार्क्स और सात्र जैसे शब्द हवा के साथ उड़ते हुए हमारे कानों में ड्राईंगरूम तक आ पहुँचते, जहाँ हम घर के लोग बैठे टीवी पर किसी मनमोहक कार्यक्रम का आनंद ले रहे होते।

बहस को बीच में ही आधी-अधूरी छोड़कर आशूदा सबको लेकर चल देते नुक्कड़ की चाय की दूकान पर। काफी अर्से से दद्दा ने अपने मित्रों को घर पर चाय नहीं पिलाई। शायद तभी से, जिस दिन पिताजी आदतन बड़बडाये थे - "काम के ना काज के, दुश्मन अनाज के ...घर को होटल बना रखा है"। 

उधर हम और मंझले दा अपनी-अपनी सरकारी नौकरी में जम गए और रंग भी गए। एक-एक बच्चे के बाप भी बन गए। पर आशूदा रहे, जस के तस यानी सिर्री के सिर्री। इधर फिजिक्स और कैमेस्ट्री का ट्यूशन पढने के लिए तमाम स्कूली लड़की-लड़के आशूदा को घेरे रहते। जब-तब हमारे कानों को भी सुनने को मिल जाता है लोगों से - "आशूदा कितना अच्छा पढ़ाते हैं, कितना दिल लगाकर मन से पढ़ाते हैं आशूदा"। 

यह सब जानकर पिताजी के भीतर नई उम्मीद जगी। कुछ-कुछ आशा बंधने लगी कि कुछ नहीं से, यह भी कुछ बुरा नहीं है। हम घर वालों के दिमाग के अंदर गुणा-भाग चलने लगा ..... बीस-पच्चीस से कम स्टुडेंट नहीं आते आशूदा के पास। अगर एक स्टुडेंट का कम से कम पांच-छह सौ रुपया भी मान कर चलें तो आशूदा बारह-पंद्रह हजार से कम नहीं कमाते। लेकिन अम्मा के हाथ में डेढ़-दो हजार रखकर छुट्टी पा जाते हैं।
एक दिन सुबह चाय-नाश्ते के समय पिताजी ने बुलाया आशूदा को। हम लोग भी मौजूद हैं दद्दा की पेशी के वक़्त। पिताजी पूछते हैं - "का हो बड़के, केतना इनकम हो जाता है ट्यूशन से ?"

'जी पिछले महीने तीन हजार आये थे' आशूदा शांति भाव से जवाब देते हैं। चौंक पड़ते हैं पिताजी - "इतना कम ? आखिर कितना फीस तय किये हो उन सबसे ?" 

"जी कुछ भी तय नहीं किया है। वो लोग मुझसे पढना चाहते हैं, इसलिए पढ़ा देता हूँ। जोर जबरदस्ती से जितना रख जाते हैं, उतना ही रख लेता हूँ।" आशूदा ने निर्विकार भाव से जवाब दिया।

पिताजी का पारा हाई हो जाता है। क्रोध के मारे मुंह से शब्द नहीं फूटते। बीच में मंझले दा मोर्चा संभालते हुए बोल उठते हैं - "दददा सुना है आप बहुत अच्छा पढ़ाते हैं। अपने हुनर का फायदा काहे नहीं उठाते। आप चाहो तो एक स्टुडेंट से हजार-बारह सौ रुपया फीस मिल सकता है। हजारों रुपया कम सकते हैं, लेकिन आप तो कुछ समझते ही नहीं।"

"आई जस्ट कांट डू दैट ...सॉरी, मुझसे यह सब नहीं होगा।" आशूदा अपना वही पुराना दो टूक जवाब देकर बिना किसी की ओर देखे कमरे से बाहर निकल जाते हैं।

पिताजी का बड़बड़ाना जारी रहता है - "अपने ही भाग्य में लिखा था ऐसा नमूना। लानत है ऐसी औलाद का बाप होना।" अंदर से अम्मा का रोना-सिसकना शुरू हो जाता है। जब भी आशू दददा के ऊपर कोप बरसता है तो अम्मा को लगता है कि अप्रत्यक्ष रूप से बात उनको सुनाई जा रही है। तीन-तीन पुत्रों के होते हुए भी घर के अंदर पिताजी, आस-पड़ोस वाले और नाते-रिश्तेदार सभी आशू की माँ कहकर ही बुलाते हैं। इतने बरसों में अम्मा अपना नाम ही भूल चुकी हैं। पिताजी को कोई काम होता तो यही कहते हैं - "सुनती हो आशू की माँ।" यही हाल आस-पड़ोस का है। सामने वाली मिश्राइन हों या बगल वाली चौधराइन, सबके कहने का अंदाज वही होता - "का हो आशू की अम्मा का हो रहा है।"

आजकल आशूदा से मिलने कितने ही सारे लोग आते हैं। छात्रों के अभिभावक किसी न किसी बहाने से मिठाई और फल इत्यादि ले आते हैं तो दद्दा नाराज होकर यह सब लाने को मना करते हैं। छात्रों के अभिभावक उदास हो उठते हैं। अब तो सामाजिक कार्यकर्ता, अध्यात्म के जिज्ञासु और कुछ साहित्यकार जैसे लोग भी आये दिन दिखाई दे जाते हैं। कई एक सभ्रांत लोग गाडी लेकर आते हैं और सम्मान के साथ आशूदा को अपने साथ ले जाते हैं।

ऐसी अनहोनी देखकर मंझले दा और मैं घुटन महसूस करते। ताज्जुब होता है कि ऐसा भला क्या है आशूदा में ? नौकरी तक तो कहीं कर नहीं पाए। मिसफिट रहे हर जगह। कायदे से रहना तक तो उनको मालूम नहीं। बदरंग कुर्ते-पैजामे और आधा दर्जन जोड़ लगी पुरानी चप्पल चटकाते घुमते हैं। घर की इज्जत में बट्टा लगाते आये हैं आशूदा। लोग भी जाने क्या-क्या सोचते होंगे कि दो भाई गजटेड आफिसर और एक भाई इस कदर फटीचर।

दिन पर दिन आशूदा के पागलपन में इजाफा ही होता जा रहा है। पहले ही आसार क्या कम बिगड़े थे, अब तो वे कवितायें भी लिखते हैं। उनके लेख भी पत्र-पत्रिकाओं में छपने लगे हैं। विद्यार्थी अब ज्यादा तादाद में उन्हें घेरे रहते हैं। लोग आशूदा की चर्चा करते हैं। सब के सब ही क्या बौराए हुए हैं .... आखिर दददा का स्टेटस क्या है ? तीन में न तेरह में। न कोई पोजीशन, न कोई बैंक बैलेंस ... और तो और अपने लिए एक अदद स्कूटर तक न जुटा सके आशूदा। लोगों कि मति खराब हो गई है या फिर सबकी आँखों में मोतियाबिंद उतर आया है ?

हम दोनों भाईयों के पास चमचमाती कारे हैं, लेटेस्ट मोबाईल है, लायंस और रोटरी क्लब की मेम्बरशिप है। हमने पॉश लोकेलिटी में प्लाट खरीद रखे हैं। बच्चे पब्लिक स्कूल में पढ़ते हैं। हमारा उठाना-बैठना हाई सोसाईटी में है। रिटायरमेंट के बाद पिताजी अब प्रदेश की राजनीति में सक्रिय रहते हैं। सुबह-शाम बड़े-बड़े ठेकेदार हमारी कोठी के चक्कर लगाते हैं। लोगों के अटके हुए काम हमारे एक फोन भर से पूरे हो जाते हैं। हमारा परिवार अब शहर के जाने-माने परिवारों में गिना जाता है। मंझले दा को तो पार्टियों, प्रोग्रामों में चीफ गेस्ट की हैसियत से बुलाया जाने लगा है।

रिश्तों को नकारा तो नहीं जा सकता। परिवार में एक आशूदा का होना ही मखमल में टाट का पैबंद लगना है। आशूदा आखिर क्यों नहीं समझते पैसे की कीमत ? क्या कभी जान पायेंगे इज्जतदार होने का मतलब ? स्टेटस भी कोई चीज होती है, यह बात कब बूझेंगे ? "सॉरी आई जस्ट कांट डू दैट" कहने भर से ही दुनिया थोड़ी बदल जाती है। क्या आशूदा जिंदगी भर यूँ ही पढ़ते रहेंगे मोटी-मोटी उल-जुलूल किताबें ? सामाजिक न्याय और शोषण पर करते रहेंगे बहस ....पढ़ाते रहेंगे बेगारी में ट्यूशन। क्या सारी जिंदगी उनकी यूँ ही बेकार गुजर जायेगी ? क्या कभी कुछ भी नहीं बन पायेंगे आशूदा ? हम सब घर वाले चिंतित और परेशान हैं उनको लेकर लेकिन वो तो बिलकुल बेफिक्र व निर्द्वंद हैं।

बड़े-बड़े लोग घर में आते हैं। ऐसे में उनके समक्ष आशूदा सामने पड़ जाते हैं तो हम लोग परिचय कराने से भी कतराते हैं। परिचय देने लायक कुछ हो तो ही न बताया जाए। सच तो यह है कि हमें यह बतलाते भी शर्मिंदगी महसूस होती है कि आशूदा हमारे बड़े भाई हैं। लेकिन जो लोग पहले से हमारे रिश्तों को जानते हैं, उनके सामने गर्दन शर्म से झुक जाती है। अब हो भी क्या सकता है। खून का रिश्ता काटकर अलग तो नहीं किया जा सकता। रिश्तों का साथ तो उम्र भर निभाना पड़ता है। हम कुछ भी हो जाएँ वो हमें मंझले और छोटे ही कहते रहेंगे। हमें तो उनको दददा या आशूदा ही कहना होगा।

मंझले दा और मैं अपने-अपने खूबसूरत बंगलों में रहते हैं। पिताजी की राजनैतिक सक्रियता ने रंग दिखाया और वो एम.एल.सी. हो गए हैं। पिताजी अभी भी पुरानी कोठी में ही अम्मा और आशूदा के साथ रहते हैं। छोटे-बड़े नेताओं का आना-जाना लगा रहता है। लाल बत्ती की गाड़ियाँ खड़ी रहती हैं। हम लोगों का रुतबा अब और भी बढ़ गया है। बस एक आशूदा ही हैं सफेद संगमरमर की चमचमाती फर्श पर पान की पीक जैसे। अपनी अनचाही उपस्थिति दर्ज कराते हैं।

उस दिन आशूदा सवेरे के गए शाम तक नहीं लौटे। देर रात लौटे भी तो पुलिस और कुछ लोगों के साथ । जो उठाकर लाये थे निर्जीव हो चुके आशूदा को। मृत हो चुकी थी उनकी देह। दो-चार प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि रास्ते में चलते-चलते ही आशूदा को दिल का दौरा पड़ा था। जब तक पुलिस और लोगों ने अस्पताल पहुंचाया, तब तक दददा संसार से नाता तोड़ चुके थे।

दूसरे दिन घर पर जाने-माने लोगों की भीड़ थी। लेकिन उस भीड़ से भी बड़ी एक और भीड़ भी उमड़ पडी थी घर के बाहर। आशूदा से अन्तरंग जुड़े लोगों, बेशुमार अनजान चेहरे। दददा की एक अलग दुनिया को इकठ्ठा एक साथ देखकर मैं और मंझले दा हतप्रभ थे। स्कूली लड़के-लड़कियां ऐसे सुबक रहे थे मानो उनके परिवार के किसी सगे की मृत्यु हो गई हो। बड़े बुजुर्गों की आँखों से आंसू यूँ बह रहे थे जैसे वो अपने पुत्र को अंतिम विदा दे रहे हों। यहाँ तक कि पानवाले, खोमचे वाले, चाय की गुमटी वाले तक बाहर कोने में ग़मगीन खड़े थे। हम हमेशा की तरह हैरान थे कि आखिर आशू दा में ऐसा भला क्या था जो सैकड़ों की आँखों को नम कर गए।

आशूदा अब नहीं हैं। हालांकि न होने जैसे पहले भी थे। लेकिन शायद वो कुछ न होते हुए भी कुछ थे जरूर। उनकी छाप पूरे घर पर दिखाई पड़ती है। ढेर सारी किताबें अलमारी पर अभी भी सजी हुयी हैं, जो बाट जोहती हैं उन अभ्यस्त उँगलियों की जो उनके पन्नों को उलटती थीं। दर्जनों फाईलों में दबी पड़ी हैं आधी-अधूरी कवितायें और लेख, जिन्हें अपने पूरे होने का इन्तजार है।

अम्मा को तो लगता है कि वो अब अकेलेपन के साथ ही बेनाम भी हो गई हैं। अम्मा की बूढी आँखें प्रतीक्षारत हैं अभी भी बदरंग कुर्ते-पैजामे में दबे पाँव घर में प्रवेश करती एक मानव छाया की। पिताजी तलाशते रहते हैं किसी के पागलपन को, जिस पर अपनी झल्लाहट उतार सकें। हम दोनों भाई तमाम दौलत और शोहरत के बीच फैल चुके अबूझ सन्नाटे को को साफ तौर पर महसूस कर रहे थे।

कोई एक था जो बेफिक्र मंद-मंद मुस्कुराता था। कोई एक था जो गंभीर स्वर में "सॉरी आई जस्ट कांट डू दैट" कहकर, कमरे से तेजी से निकल जाता था। क्या वाकई इतने गहरे तक पैठी होती हैं, 'नगण्य' से व्यक्ति की जड़ें ? क्या इस हद तक होता है 'असाधारण', किसी का साधारण होना ? समझ में नहीं आता कि यह कैसी शून्यता है, उस शख्स के बगैर जो कि महज मखमल में टाट का पैबंद था।

आज जब मंझले दा, मैं और अम्मा-पिताजी के पास सब कुछ है तो किस बात की कमी महसूस करते हैं। घर की हवाओं में अब फलसफे की गंध नहीं आती। अब निठल्ले दिखाई नहीं देंगे, कोई बहस नहीं होगी। छात्रों का जमघट अब न दिखेगा। जमाने भर के दुःख-दर्द की बातें अब नहीं होंगी। कविता के छंद नहीं, लोकगीतों की बहार नहीं, प्यार नहीं, पीड़ा नहीं, अहसास नहीं, चिन्तन नहीं, मनन नहीं, आंसू नहीं, आह नहीं ................ नहीं .... नहीं ... , अब कुछ भी नहीं। आशूदा की चिता जाने के साथ ही सब स्वाहा हो गया।

उनके जाने के बाद बस मुंह चिढाने और घूरने को रह गई हैं पोर्च में खड़ी निर्जीव कारें, हाथों में मिनमिनाते मोबाईल, खिड़की से चिपके एयर कंडीशनर, ठेकेदारों के साथ होते निर्मम सौदे, फाईव स्टार का डिनर, पब्लिक स्कूल में जाते बच्चे। आशूदा के साथ ही विदा हो गया है जीवन का स्पर्श। वही आशूदा जो बदरंग कुर्ता-पैजामा और टूटी चप्पल पहले खटकते रहते थे आँखों को, सफेद संगमरमर के साफ सुथरे फर्श पर पान की पीक जैसे।


------------------------------- समाप्त   -------------------------------
['आशूदा' कहानी 'रचनाकार' में भेजी गई थी जहाँ उसे प्रकाशित किया गया था]

 पाठकों की यादगार / बहुमूल्य प्रतिक्रियाएं :
---------------------------------------------------------------------------------
bar
धर्मेन्द्र त्रिपाठी : 
मन - जेहन को छू लेने वाली कहानी.
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अल्पना वर्मा :
मर्मस्पर्शी भावपूर्ण कहानी. इस भौतिकवादी समाज में आशू दा जैसे लोगों की अहमियत शायद उनके जाने के बाद ही आती है. कसा हुआ कथानक है.पढते हुए जैसे चित्र बनते चले गए.प्रस्तुति प्रभावी है और कहानी का अंत आँखें नम कर गया. बधाई.
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अदिति चौहान :
आशुदा की कहानी बेमन से पढनी शुरू की थी, लेकिन पता नहीं कब कहानी में खो गई. कहानी पढ़कर बहुत उदास हूँ. बहुत अच्छी कहानी है.
--------------------------------------------------------------------------------------------------
आनंद शर्मा :  
बहुत खूब गोविन्द भाई साहब :)
--------------------------------------------------------------------------------------------------
राजीव तनेजा :
प्रकाश गोविन्द जी की इस कहानी पढने लगा तो पढता ही चला गया ... लेखनी को सलाम
--------------------------------------------------------------------------------------------------
News 4 jharkhand.com :
बेहद उम्दा कहानी पढ़ने को मिली
--------------------------------------------------------------------------------------------------
सीमा गुप्ता : 
अम्मा को तो लगता है कि वो अब अकेलेपन के साथ ही बेनाम भी हो गई हैं एक दम जिवंत चित्रण बेहद ही मर्मस्पर्शी
--------------------------------------------------------------------------------------------------
शुभम जैन : 
रुला गयी आशुदा की दास्तां....वाकई साधारण होना बहुत ही असाधारण है...
--------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रकाश गोविन्द :
फिल्म - ऋषिकेश दा की एक 'फिल्म - बावर्ची' में राजेश खन्ना का एक अर्थपूर्ण संवाद है - "It is so simple to be happy but it is so difficult to be simple," (सादगी को अपनाकर कितनी आसानी से खुश रहा जा सकता है, पर सादगी को अपनाना कितना कठिन है ) आज के भौतिकतावादी दौर में साधारण होना ही असाधारण है ! 
-------------------------------------------------------------------------------------------------- 
राकेश त्रिपाठी : 
अत्यधिक मर्मस्पर्शी भावपूर्ण कहानी. .पढते हुए अपने आप चित्र बनते चले गए. प्रस्तुति प्रभावी है कहानी का अंत आँखें गीली कर गया. आशू दा जैसे लोगों की अहमियत शायद उनके जाने के बाद ही आती है. मेरी और से बधाई.
--------------------------------------------------------------------------------------------------
सुमन :  
स्तब्धकारी कहानी! सार्थक सृजन! 
--------------------------------------------------------------------------------------------------
जी.जी.शेख : 
I just can't do that...! वैसे नकार कि जैसे आशूदा के पास थे... क्या नकारों की आवश्यकता नहीं है आज...?क्या हमें अनुकूलित जो भी मिला है वे सब का सब सही है...? क्या यहाँ "नकार" की आवश्यकता बिल्कुल नहीं ? हमारा मध्यम वर्ग आज बहुत ज्यादा ही subjective हो गया है... अब जो चीजें आवश्यक है जीने के लिए सुख-सुविधा के लिए उसे अर्जित करना है...और अपने जीवन धोरण को सुचारु बनाना है...पर यह आवश्यक साधन अब स्टेटस सिम्बोल या दिखावे का साधन बने हुआ है... और अमीरी-ग़रीबी की घृणा का विषय भी... अब समग्र जीवन को इसी एक मात्र हेतु के नज़रिये से ही देखा जाए...? तो फिर जीवन को समझने के वे जीवंत जीवन आनंद, मूर्त-अमूर्त कलाएं, वे रसप्रद विषय जो हमारी मानसिक ज़रूरियतों को पुष्ट करें इत्यादि की क्या कोई आवश्यकता ही नहीं...? विज्ञापनों के साथ टी.वी. सिरीयल्स देखो, या सिनेमा- घरों में जाकर फिल्में देखो...और सस्ते मनोरंजन से टाईम पास करो... 

प्रकाश गोविंद जी ने कहानी अच्छी लिखी है...भाषा भी उनकी प्रवाहित है, और समाज-जीवन की बारीकियों की समझ व पकड़ वे रखते हैं, जिसका एहसास वे इस कहानी में भी कराते हैं...हमारी कुछ सच्चाइयों, अच्छाईयों और बुराईयों को भी उनके सही परिप्रेक्ष्य में उन्हों ने समझा है और जिसके अनुरूप वैसे शब्दों का चयन भी प्रकाश जी ने बडी ही सम्प्रेषणीयता से इस कहानी में किया है... हमारे मध्यमवर्गीय सामाजिक रीति- रिवाज़ों, निम्न कही जाए वैसी वृत्तियों और प्रवृतियों को भी बखूबी प्रकाश गोविंद जी ने उजागर किया है जहां आशुदा जी जैसे सही व्यक्ति की भी अवहेलना और दुत्कार चल रहे है... आशुदा के पात्र को और उजागर किया जा सकता था...जिन्हें समझने की यहाँ परिवार में किसी की कोई चेष्टा ही न दिखे...और आशुदा के बाद उनका जो महिमा मण्डन हो रहा था वहाँ भी सारा का सारा परिवार एक संमूढ़ता का शिकार दिखा...और आज हम सभी जैसे उन्हीं संमूंढों में शामिल होते जा रहे हैं कि जो जीवन के सारे मूल्यों को सामाजिक आर्थिक सफलता के ही मापदंड से परखते हैं...

आज हमारे ज्यादातर मध्यम वर्गीय युवाओं की मानसिकता है की "अगर पैसा आता है अगर एथिक्स के साथ आता गा तो भी चलेगा और पैसा अनएथिकल्ली भी आता है तो वह भी चलेगा...it doesn't make any difference...! बस पैसा आना चाहिए... नई कहानियों का आधुनिक व प्रबुद्ध विकास भी हुआ है, हो रहा है उस और भी गोविंद प्रकाश जी को ध्यान देना होगा...ताकी कहानी के अपने नए-नए फॉर्म भी स्थापित हो और जो अन्य सभी वर्गों को भी छुए... 
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अनंत भारद्वाज : 
हालाँकि सच में कहूँ तो आशूदा जैसी कहानियाँ बहुत पढ़ीं, क्यूंकि ये हमारे समाज का आईना है, हमारा दोगलापन है | संस्कार ऐसे हैं, पर निभाए नहीं जाते | और आशूदा जैसे शख्स हमेशा दुत्कारे जाते हैं, खटकते हैं, पर आँखों में आँसू की तरह चमकते हैं तो जब, कहानी खत्म होने वाली हो | जीवंत लेखनी को सलाम |
--------------------------------------------------------------------------------------------------
दर्शन लाल बवेजा : 
मर्मस्पर्शी भावपूर्ण कहानी आह आशूदा
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अजय श्रीवास्तव : 
'वेरी नाईस' मर्म स्पर्शीय ...... जो आज की परिस्थितियों को देखते हुए सीधे दिल को जा लगी ... 'वेरी गुड़' गोविन्द जी ... वेरी नाईस
--------------------------------------------------------------------------------------------------
Vcadantewada Kawalnar Ashram : 
कहानी पढ्ता रहा टीस उठती रही !गज़ब की बयानी !
--------------------------------------------------------------------------------------------------
राज शेखर : 
कुछ आंसू मैं भी आशुदा को अर्पित करता हूँ.
--------------------------------------------------------------------------------------------------
यशवन्त माथुर : 
बहुत अच्छी कहानी है सर! इसे पढ़ कर प्रेमचंद की नमक का दारोगा का कथानक भी याद आ गया। सादर
--------------------------------------------------------------------------------------------------
आशीष मिश्रा : 
बहुत ही मर्मस्पर्श कहानी. आशु दद्दा जैसे लोगो की कमी है, पर कहीं न कहीं आज भी विरले आशु दद्दा जरुर है.......आशु दद्दा जैसे लोग खुद को समाज के सामने प्रदर्शित नहीं करते और शायद इसिलिये हमें दिखते भी नहीं........ क्योकि हमारी ऑंखें भी तो समाजिक व्यक्ति को ही ढूंढती है....... 
--------------------------------------------------------------------------------------------------
कविता वर्मा : 
एक सच्चे इंसान की मर्म स्पर्शीय कहानी .......... !!!
--------------------------------------------------------------------------------------------------
एडवोकेट जियाउल हक अंसारी : 
बहुत खूब गोविन्द जी ................ गुड़ वर्क !
--------------------------------------------------------------------------------------------------
निर्मला कपिला :
कल कहानी पढी थी लेकिन कमेन्ट नही कर पाई। मुझे ताज़्ज़ुब है किस तरह से प्रकाश जी ने एक आम विषय को कहानी के माध्यम से खास बना दिया है। आज कल तो आशु दद्दा जैसे लोगों को बिलकुल नकारा समझा जाता है आज हम उस समाज मे रह रहे हैं जहाँ आदमी का सम्मान उसकी प्रतिभा से नही उसके धन दौलत और उच्च रहन सहन से होता है।जाने कितने आशु दद्दा इसी तरह चुपके से इस समाज से कूच कर जाते हैं और समाज को बाद मे समझ आता है कि उस आशु मे कुछ तो खास था जिसे वो समझ नही सका। समाज प्रतिभाओं को पहचानने की अगर जरा भी कोशिश करे तो हम इस समाज को उनकी सेवाओं दुआरा बहुत लाभ दिलवा सकते हैं। बहुत अच्छी कहानी। गोविन्द जी को बधाई।
--------------------------------------------------------------------------------------------------
दीपक 'मशाल' :  
आदरणीय प्रकाश जी, .. यह कहानी क्या है आधुनिक सोच को दर्शन और वास्तविकता का आइना दिखाना है. कहानी पढ़कर एक सुकून यह भी हुआ कि मेरी झोली में भी आशु दा की तरह के कुछ दा अभी हैं जो कि कहानी के आशु दा की तरह उपेक्षित नहीं हैं बल्कि आये दिन प्रेरित करते रहते हैं. यह कहानी पढ़कर उनका मान और भी बढ़ा है. आपने मेरी अगली कहानी 'गुरु जी गणित वाले' के लिए सूत्र भी दे दिए उसके लिए शुक्रगुज़ार हूँ. एक बार फिर आपकी बेहतरीन कहानी की सराहना करता हूँ. शुभकामनाएं..
--------------------------------------------------------------------------------------------------
विजय कुमार सप्पत्ति : 
प्रकाश भैया , आँख में पानी ला दिए हो . अब क्या कहे.. खुद को ही आशु दा में देख लिया. लगा खुद की ही कथा पढ़ रहा हूँ. भैया. दोनों हाथो से नमन , इस कथा को पढवाने के लिये. बहुत दिनों के बाद कुछ पढ़ा है .. दिल को छु गया है ,. अब शाम को घर में सब को पढ़वाता हूँ. आपका विजय 
--------------------------------------------------------------------------------------------------
वन्दना : 
उफ़ इतना जीवन्त और मार्मिक चित्रण किया है कि मेरे पास शब्द नही हैं तारीफ़ के …………अभी तक तो सोच मे हूँ कि क्या कहूँ? बस महसूस रही हूँ उन अहसासों को………।
--------------------------------------------------------------------------------------------------
शिव :   
शब्द चयन की तारीफ़ करनी ही होगी --- यथोचित भावाभिव्यक्ति. सराहनीय शुरुआत .... कहानी कुछ कहते कहते चुप हो गई .... कहानी कई आयामों की ओर इंगित कर रही थी...; पर ऐसा हुआ नहीं.
--------------------------------------------------------------------------------------------------
रीतेश : 
प्रकाश जी...कहानी पढ़ी अक्षरशः दास्तानगोई लहजे में. मंझले भाई भी साथ बैठे सुनने के लिए, तो बीच-बीच में २-३ अनुभागों का वाचन उनने भी किया. एक एक अनुभाग जैसे जैसे बीत रहा था, दर्दमंदी दिल में गहरी हुई जा रही थी. लगभग सारी टिप्पणियाँ और कुछ पर आपकी प्रत्युत्तर भी पढ़े, क्योंकि लगभग सारे पाठकगण बुद्धिजीवी और विचारक जन प्रतीत हो रहे हैं. मेरे मन में उभरे भावों का आईना हैं वे सब. खुद से और क्या लिखूं..बस यही व्यक्त करना चाहूँगा जो व्यक्तिगत तौर पे मुझे झंझोड़ता है. मुझे लगता है आपके उम्दा लेखन में रची-बसी यह कहानी और ऐसी ही अन्य कई कहानियां जिस तरह अंत में मुख्य पात्र की कमी महसूस कराती हैं, वह पात्र की महत्ता तो बढ़ा देती हैं पर जिस यथार्थ का चेहरा आँखों में उभरता है, वह "सच्चे दुःख" की अनुभूति करवाता है. कटु सत्य है कि कला की यह विडम्बना है..दुखान्तकी कथा को रोचक और अंतरसंवाद योग्य बना देती है... कथा के लिए ह्रदय से प्रशस्ति और अभिवादन के इतनी बढ़िया कथा-वस्तु और शिल्प प्रस्तुत किया आपने. मेरे लिए तो आप प्रेरणादायकों में से एक हैं!!!
--------------------------------------------------------------------------------------------------
रूप रोशन : 
प्रकाश भैया, आपकी कहानी पढ़ने के पश्चात मुझे अपने भीतर संवेदना और ज्ञान प्राप्त हुआ. जिसमे पात्र आशु दा में मैंने खुद को देख लिया . कहानी के कुछ भाग़ रोचक और दिल छु जाने वाले लगे . आपने बहुत अच्छा लिखा है . मेरी शुभ कामनाएं .
--------------------------------------------------------------------------------------------------
यशवन्त माथुर : 
कल 29/07/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अविनाश रामदेव : 
अत्यंत मार्मिक .... अधूरी चाह .... जैसा कि  कभी पढ़ा था - भोलाराम की आत्मा जो यमलोक में भी नहीं पहुंची .... पेंशन फाईल में अटकी मिली  
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अहमद कमाल सिद्दीकी : 
गोविन्द जी ,आप् कि कहानी पढ़ी बहुत पसंद आई, जिस तरह भौतिकता कि चमक चौंध के बीच जीवन के मूल्य खोते जा रहे हैं ..इसका बहुत सुन्दर चित्रण किया है ...
--------------------------------------------------------------------------------------------------
विभा रानी श्रीवास्तव : 
आशूदा मेरे मझले भैया की याद दिला गए .... और मेरे आँखे नाम कर गई ये रचना 
--------------------------------------------------------------------------------------------------
संगीता स्वरुप ( गीत ) : 
आशु दा की दास्तान मर्म को छू गयी .... कहानी में बखूबी बता दिया गया कि आज कैसे लोगों की पूछ है , कैसे लोगों को बड़ा समझा जाता है .... लेकिन आशुदा जैसे लोग दिमाग में नहीं दिल में बसते हैं ..... और उनके न रहने पर ही उनका महत्त्व समझ आता है , जब तक इतनी देर हो चुकी होती है कि बस फिर केवल सोचा ही जा सकता है ... बहुत अच्छी कहानी ...पाठक को अंत तक बांधे रखती है ।
--------------------------------------------------------------------------------------------------
रंजीत पालीवाल :  
कुछ कहानियां दिल की गहराई तक जाकर असर करती हैं आपकी यह कहानी भी कुछ ऐसी ही है आशूदा की दास्ताँ पढ़ते पढ़ते दिल के भीतर बहुत कुछ घटता चला गया एक अरसे बाद बहुत यादगार कहानी पढ़ी धन्यवाद
--------------------------------------------------------------------------------------------------
गोविन्द परमार : 
क्या इस हद तक होता है 'असाधारण', किसी का साधारण होना ? हा होता है ,बहुत सुन्दर कहानी
--------------------------------------------------------------------------------------------------
शिवेंद्र सिन्हा : 
बहुत गहराई से दिल को छूने वाली कहानी है. कहानी का शिल्प निरंतर पाठक को बांधे रहता है और आखिर तक आते-आते ढेरों सवाल मन में उठने लगते हैं. बेहतरीन कहानी लिखने के लिए प्रकाश गोविन्द जी को हार्दिक बधाई
--------------------------------------------------------------------------------------------------
ज्योति शर्मा
Very Heart Touching Nice Story ---------- Thanks
--------------------------------------------------------------------------------------------------
कविता विकास : 
प्रकाश जी ,कहानी अपने घर के पास की ही है । आशू दा तो मुझे अक्सर मिलते हैं ।इस सुन्दर ,सार गर्भित कथा के लिए आप बधाई के पात्र हैं । मित्र , आपका सृजन आम मानस को छू जाये इससे बढ़कर रचना थोड़ी ही होती है ।
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अकबर महफ़ूज़ आलम रिज़वी : 
दास्तान-ए-आशू दा... सिर्फ आशू दा की दास्तान नहीं है। वैसे आशू दा किसी एक व्यक्ति या पात्र का नाम भी नहीं है।आशू दा उस प्रवृत्ति का नाम है जो सबकुछ प्राप्त कर लेने और सुख-सुविधा के लिए कुछ भी कर गुजरने वाली सोच के बरक्स संवेदना और त्याग की दुनिया रचती है। आशू दा एक उम्मीद का नाम है। कि जब तक आशू दा हैं, संवेदना, प्रेम, त्याग, सादगी और सच्चाई बची रहेगी। बहुत ही सुंदर कहानी। जीवन सिर्फ सुख-सुविधाएं जुटाने का नाम नहीं है। जिन्दगी सिर्फ प्राप्त करने का नाम नहीं है। जिन्दगी सिर्फ रूपये का नाम नहीं है। जिन्दगी सिर्फ शो-ऑफ का नाम नहीं है। लेकिन दुर्भाग्य तो ये कि आज उन तमाम चीज़ों की महत्ता है जो पहले कभी इतने महत्वपूर्ण नहीं रहे। ऐसे में आशू दा को परिवार ने पागल समझा तो अचरज की बात नहीं। ख़ैर, प्रकाश जी कहानी वाकई मार्मिक और विचारोत्तेजक है। हमारा साधुवाद स्वीकार करें।
--------------------------------------------------------------------------------------------------
अकबर महफ़ूज़ आलम रिज़वी : 
आशू दा इस अत्याधुनिक शो-ऑफ और क्या कुछ पा लेने की होड़ में जुटी अर्थ-ललायित भीड़ के खिलाफ अकेली खड़ी संवेदना और मानवीय मूल्यों के प्रतीक हैं। और उम्मीद भी कि सबकुछ अभी खत्म नहीं हुआ है। आशू दा की मृत्यु भले हो गई है, आशू दा जो कि एक विचार भी हैं, अभी जिन्दा हैं और यही उम्मीद दुनिया के बेहतर होने या बने रहने की साक्षी भी। कहानीकार साधुवाद के पात्र हैं। बिना किसी घटना या वाग् आडंबर के सामान्य शब्द-शिल्प की मदद से इतनी भावपूर्ण और विचारोत्तेजक कथा की रचना कोई साधारण काम या उपलब्धि नहीं है।
--------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रकाश गोविन्द : 
आज के समय की दिक्कत सबसे बड़ी है कि हमने रुपये को योग्यता से .. काबिल होने से जोड़ दिया है ! जो जितना ज्यादा पैसे वाला वो उतना ही काबिल ! अब रुपया है तो दूसरों को उसे दिखाना भी पड़ता है ... तो बस एक सिलसिला चल निकलता है - बड़ा बंगला, लक्जरी गाडी, महंगा मोबाईल, ब्रांडेड कपडे, माडर्न लाईफ स्टाईल ..... ..! इस चक्कर में बहुत कुछ हमसे दूर होता चला जाता है ! - आपकी प्रतिक्रिया मेरे लिए एक यादगार उपलब्धि है ... आपने बहुत ही सधे व् संतुलित शब्दों में पूरी कहानी का सार समझा दिया ! बहुत सुन्दर विवेचना ! बहुत शुक्रिया !
--------------------------------------------------------------------------------------------------
सरोज : 
प्रकाश गोविन्द जी .अत्यंत भावपूर्ण व रोचक कहानी लिखी है आपने .......!तारतम्य कही से टूटने ना पाया है जैसे एक ही सांस में पढ़ी जाए ....आज के भौतिकतावादी युग में आशुदा जैसे चरित्र मिसफिट ही हैं ....!पहले जो एक आदर्श मनुष्य की परिभाषा है अब वो फिट नहीं बैठती आज के एक सफल मनुष्य पर ...!!आज के यथार्थ से परिचय कराती आपकी सार्थक कहानी के लिए बहुत बधाई ! 
--------------------------------------------------------------------------------------------------
मनमोहन कृष्ण : 
लगा जैसे कहीं खे गये और जब वापस लोटे तो आंखों में से दो बूंद गालों पर थी
---------------------------------------------------------------------------------------------------
 रंजना सिंह : 
मन को छू विभोर कर जाने वाली,आँखों को नम कर जाने वाली बेहतरीन कथा रची है आपने ... 
प्रवाह बेहद कसा हुआ है ... हर कसौटी पर खरी, बेहतरीन कथा है .. 
आज के दिन में ऐसे चरित्र लुप्तप्राय हैं, पर जो हैं उन्ही पर टिकी दुनियां है, सिद्धांत और मनुष्यता है... 
------------------------------------------------------------------------------------

bar
'दास्तान-ए-आशूदा' कहानी को अर्चना चाव जी के स्वर में सुनिए :
bar